गृह मंत्री अमित शाह (Home Minister Amit Shah) ने जम्मू कश्मीर (Jammu-Kashmir) में आतंकवादी हमलों की बढ़ती घटनाओं को लेकर आज यहां प्रधानमंत्री  नरेन्द्र मोदी (Prime Minister Narendra Modi) के साथ एक बेहद महत्वपूर्ण बैठक की। 

जम्मू कश्मीर के पुंच्छ में नौ दिनों से जारी मुठभेड़ में सेना के दो जूनियर कमीशन अधिकारियों सहित नौ सैनिक शहीद हो चुके हैं और सेना अध्यक्ष जनरल एम एम नरवणे (Army Chief General MM Naravane) भी केन्द्र शासित प्रदेश के दो दिन के दौरे पर गये हुए हैं। इसके अलावा केन्द्र शासित प्रदेश में आतंकवादियों ने नागरिकों की हत्या करके भी सुरक्षा के लिए चुनौती खड़ी कर दी है। अब तक करीब 11 नागरिकों की जान जा चुकी है। 

शाह 23 एवं 24 अक्टूबर को जम्मू कश्मीर (Jammu Kashmir) के दौरे पर जा रहे हैं। इस दौरे के पहले सरकार आतंकवादियों एवं उन्हें सीमापार से शह देने वाली ताकतों को साफ एवं सख्त संदेश देना चाहती है। हाल ही में शाह ने कहा था कि जम्मू कश्मीर में आतंकवाद फैलाने वाली ताकतों के ठिकानों पर पुन: सर्जिकल स्ट्राइक का विकल्प खुला हुआ है। 

शाह (shah) ने सोमवार को राष्ट्रीय सुरक्षा रणनीति सम्मेलन की अध्यक्षता की जिसमें वरिष्ठ पुलिस अधिकारी एवं अद्र्धसैन्य बलों के महानिदेशक शामिल हुए थे। यह भी समझा जाता है कि उत्तराखंड एवं केरल में अतिवृष्टि, भूस्खलन के कारण नुकसान तथा बचाव एवं राहत कार्यों की भी समीक्षा हो सकती है।