इस साल 17 मार्च 2022 को होलिका दहन किया जा रहा है और उसके अगले दिन 18 मार्च को रंगों वाली होली खेली जाएगी। इस साल होली का पर्व बेहद खास रहने वाला है। ज्‍योतिष के अनुसार इस साल की होली ग्रहों के ऐसे शुभ संयोग में खेली जाएगी, जो दुर्लभ ही बनता है। हालांकि होलिका दहन की शाम भद्रा दोष भी रहेगा इसलिए इस बार होलिका शाम की बजाय रात में जलाई जाएगी।

यह भी पढ़ें : UP चुनाव जीतने के बाद योगी को असम से आई गजब बधाई, देखें तस्वीरें

होलिका दहन के दिन यानि 17 मार्च को ग्रह-नक्षत्रों की स्थिति ऐसी रहेगी जो 3 राजयोग बना रहे हैं। इस दिन गजकेसरी योग, वरिष्ठ योग और केदार योग बन रहे हैं। ज्‍योतिषाचार्यों की माने तो होली पर ग्रहों का ऐसा शुभ महासंयोग पहले कभी नहीं बना है। इतने शुभ योग में होलिका दहन का होना देश के लिए बेहद लाभदायी साबित होगा।

3 राजयोगों का बनना मान-सम्मान, पारिवारिक सुख-समृद्धि, तरक्‍की और वैभव लाता है। उस पर होलिका दहन के दिन गुरुवार का होना बेहद शुभ माना जाता है। साथ ही सूर्य भी गुरु की राशि मीन में रहेंगे। कुल मिलाकर ग्रहों की ऐसी शुभ स्थिति बीमारियों, दुख और तकलीफों का नाश करेगी। साथ ही दुश्मनों पर जीत भी दिलाईगी।

यह भी पढ़ें : एल्विस अली हजारिका ने किया असम का नाम पूरी दुनिया में रोशन, बना दिया ऐसा रिकॉर्ड

इन राजयोग में मनाया गया होली का त्योहार लोगों के लिए खुशहाली लेकर आएगा। यह ग्रह योग होली से लेकर दीपावली तक तेजी का माहौल बनाए रखेगा। कारोबारियों के लिए यह समय बेहद लाभदायी रहेगा तो देश के सरकारी कोष को भी फायदा हो सकता है। टैक्स वसूली में बढ़ोतरी हो सकती है। विदेशी निवेश बढ़ सकता है और अंतराष्ट्रीय स्तर पर चल रही मंदी भी खत्म होगी। वहीं कोरोना को लेकर बात करें तो यह ग्रह स्थितियां देश में बीमारियों का संक्रमण कम करेंगी और कोई नई बीमारी के उभरने की आशंका भी नहीं दिख रही है। इसके अलावा यह स्थिति आम लोगों को महंगाई से कुछ राहत दे सकती है।