होजाई।  असम में कुछ ऐसी शक्तियां है जो विभिन्न समुदायों के बीच एकता और भाईचारा को तोड़ने का प्रयास कर रही हैं। यह बातें व्यवसायी हबीब मोहम्मद चौधरी की इफ्तार पार्टी में शरीक होने गए भारतीय जाता पार्टी के प्रदेश प्रवक्ता प्रमोद स्वामी ने कही। 

उन्होंने कहा कि भाजपा पर कुछ लोग सांप्रदायिक होने का आरापे लगाते है जबकि भाजपा की नीति स्पष्ट है "सबका साथ सबका विकास । भाजपा वसुधैव कुटुम्बकम की बात करती है अर्थात  सारा विश्व हमारे परिवार की तरह है। 

स्वामी ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी हमेशा कहते है कि लडाई हिंदू-मुसलमानों के बीच नहीं है, हमारी लडाई गरीबी के साथ है जिसे हम दोनों हिन्दू  मुस्लमान  को मिलकर समाप्त करनी होगी।

60 वर्ष तक जिन्होने  शासन किया उन्होंने मुसलमान संप्रदाय को वोट बैक की तरह इस्तेमाल किया। उन्होंने भाजपा का भय दिखाकर  सत्ता का सुख भोगा। 60 वर्षो में सत्ता में  रहने के  बाद मुसलमानों के लिए शिक्षा के लिए क्या किया। आपको विभिन्न अंचलों में जाकर  देखने पर पता लगेगा   कि शिक्षा के क्षेत्र में भी मुस्लमान पिछडे है ।यही बात चिकित्सा के क्षेत्र में भी है ।

भाजपा का दर्शन है दीनदयाल उपाध्याय जी का दर्शन उसमें साफ साफ स्पष्ट है कि सत्ता का  सुख समाज के अतिम व्यक्ति तक पहुंचना होगा  । उसमें हिदू मुसलमान की कोई बात नहीं है । स्वामी ने कहा कि भाजपा पर सांप्रदायिक होने  का आरोप निराधार  है। भाजपा नौटंकी की राजनीति नहीं करती।

उपासना के संबंध में स्वामी  ने कहा की  उपासना पद्धति अलग-अलग हो सकती है, पर करते है सभी लोग । उस परमात्मा को कोई  ईश्वर कहता है Mकोई अल्लाह । संघ के संबंध में उन्होंने कहा कि लोग संघ पर नाना प्रकार के आरोप लगाते है पर अगर सच्चाई जाननी है तो संघ में जाकर देखे वहां सिर्फ  भारत  माता की पूजा होती है क्योंकि भारत माता हमारी ज़न्म भूमि है । जन्य भूमि  की पूजा करना सभी का धर्म है।

 इसके बाद स्वामी इफ्तार पार्टी में सम्मिलित होने गए। वहां पहुंचकर उन्होंने भारी  संख्या  में उपस्थित लोगों को रमजान की शुभकामनाएं दी ।