कौशांबी। उत्तर प्रदेश के कौशांबी जिले में प्राथमिक विद्यालयों के छात्रों निशुल्क वितरित की जाने वाली कक्षा पांच की हिंदी की पुस्तकों में अधूरा राष्ट्रगान प्रकाशित होने के मामले में प्रशासन ने संज्ञान लेकर इन पुस्तकों को वापस लेने का फैसला किया है। जिला प्रशासन की ओर से रविवार को बताया गया कि बेसिक शिक्षा अधिकारी द्वारा इन पुस्तकों को वापस लेने की प्रक्रिया शुरू कर दी गयी है। 

ये भी पढ़ेंः कोलकाता में छह ठिकानों पर ED ने मारा छापा, अब तक 7 करोड़ रुपये बरामद

एक अधिकारी ने बताया कि छात्रों को निशुल्क वितरण के लिए आई पुस्तकों में कक्षा पांचवी की हिंदी की पुस्तक 'वाटिका' के अंतिम पृष्ठ पर अधूरा राष्ट्रगान प्रकाशित हो गया है। इस पर संज्ञान ले कर बेसिक शिक्षा अधिकारी ने सभी पुस्तकों को वापस लेने के स्कूलों को निर्देश दिये हैं।

ये भी पढ़ेंः अभी नहीं गया है मानसून, मौसम विभाग ने दी बड़ी चेतावनी, यहां होगी मूसलाधार बारिश


इसके तहत सोमवार को स्कूली शिक्षक छात्रों से इन किताबों को वापस लेकर विभाग को मुहैया करा देंगे। इसके बाद इन पुस्तकों को प्रिंटिंग प्रेस के पास वापस भेज दिया जायेगा। बेसिक शिक्षा अधिकारी प्रकाश सिंह ने बताया कि पुस्तकों में इस भूल को सुधार कर पूरे राष्ट्रगान वाली पुस्तकें छात्रों को वितरित की जायेंगी।