हिमंत बिस्वा सरमा मोदी के गुलाम हैं एेसा लगता है कि उनके आगे असम का कोर्इ भी व्यक्ति कुछ नहीं जानता है। वे ही सब कुछ जानते हैं। एक अनशन कार्यक्रम में रुपहीहाट विधानसभा के कांग्रेस विधायक नुरुल हुडा ने मीडिया कर्मियों को कही।

नगांव एपेक्स बैंक के पास कांग्रेस कर्मियों ने नागरिकता संशोधन विधेयक के खिलाफ पांच घंटे का अनशन कार्यक्रम कस पालन किया। सैकड़ों कांग्रेस कर्मियों ने इस अनशन में हिस्सा लिया आैर भाजपा के खिलाफ अपने विचार को भी प्रकट किया। नगांव जिले के कांग्रेस अध्यक्ष तपन शर्मा के नेतृत्व में ये अनशन पालन किया गया आैर बाद में जिला उपायुक्त के माध्यम से राष्ट्रपति को एक ज्ञापन सौंपा गया।  


बता दें कि नागरिकता संशोधन बिल के विराध में असम कांग्रेस आैर अगप ने गुरूवार को 10 घंटे की भूख हड़ताल का आयोजन किया।दूसरी तरफ, कांग्रेस ने राज्य के सभी जिलों में पांच घंटे धरना दिया। कांग्रेस और अगप, दोनों ने कहा कि जब तक विधेयक को पूरी तरह निरस्त नहीं कर दिया जाता, तब तक उनका प्रदर्शन जारी रहेगा। अगप ने हाल ही में सत्तारूढ़ भाजपा से अपना गठबंधन तोड़ा है।

अगप के आंदोलन को अपना समर्थन देते हुये कृषक मुक्ति संग्राम समिति (केएमएसएस) के सलाहकार अखिल गोगोई ने कहा कि सरकार पर अधिकतम प्रभाव बनाने के लिए नागरिकता संशोधन विधेयक के खिलाफ पूरे राज्य में चल रहे विभिन्न आंदोलनों को एकजुट हो जाना चाहिए। अगप के सभी विधायकों और अन्य वरिष्ठ नेताओं ने राज्य की राजधानी में पार्टी की भूख हड़ताल में हिस्सा लिया।