देश में कोरोना महामारी के संक्रमण का फैलाव थमने का नाम नहीं ले रहा। कोरोना की दूसरी लहर ने सारे रिकॉर्ड ध्वस्त कर दिए हैं। देशभर में 21 लाख से ज्यादा एक्टिव केस बने हुए हैं जो कि चिंताजनक है। दिन प्रतिदिन स्थिति बिगड़ती जा रही है। बढ़ते मरीजों के कारण स्वास्थ्य सुविधाओं का भी बुरा हाल है। पिछले 24 घंटे में ढाई लाख से ज्यादा मामले सामने आए हैं। ऐसी स्थिति में देश में दोपहिया वाहन बनाने वाली सबसे बड़ी ऑटोमोबाइल कंपनी Hero MotoCorp (हीरो मोटोकॉर्प) ने देश भर में अपने सभी कारखानों में कामकाज को बंद करने की घोषणा की है।

दोपहिया वाहन बाजार की लीडर हीरो मोटोकॉर्प ने एक प्रेस विज्ञप्ति में कहा, "देश भर में कोविड-19 के प्रसार में जारी बढ़ोतरी को देखते हुए, अपने लोगों की सुरक्षा और कल्याण के लिए अपनी प्रतिबद्धता को ध्यान में रखते हुए, हीरो मोटोकॉर्प ने अपने ग्लोबल पार्ट्स सेंटर (GPC) सहित देश भर में अपनी सभी प्लांट पर अस्थायी रूप से कामकाज को रोक दिया है।" 

हीरो मोटोकॉर्प ने अपने बयान में कहा है कि स्थानीय परिस्थितियों को ध्यान में रखते हुए 22 अप्रैल से 1 मई के बीच, हर प्लांट और ग्लोबल पार्ट्स सेंटर (जीपीसी) चार दिनों के लिए चरणबद्ध तरीके से बंद रखा जाएगा। गौरतलब है कि, हीरो मोटोकॉर्प देश की पहली ऐसी कंपनी है जिसने अस्थायी शटडाउन करने का एलान किया है। हालांकि सरकार ने कहा है कि लॉकडाउन आखिरी विकल्प होना चाहिए। 

कंपनी का कहना है कि वह इस शटडाउन का उपयोग प्लांट में आवश्यक रखरखाव कार्य करने के लिए करेगी। शटडाउन कंपनी की मांग को पूरा करने की क्षमता पर कोई असर नहीं पड़ेगा। कई राज्यों में स्थानीयकृत शटडाउन के कारण प्रभावित हुई है और उत्पादन प्रभावित हुई है।" इस शटडाउन से होने वाले नुकासा की भरपाई आने वाले समय में की जाएगी। कंपनी ने कहा कि इस छोटी सी शटडाउन अवधि के बाद सभी प्लांट में सामान्य रूप से कामकाज फिर से शुरू हो जाएगा।

कंपनी के सभी कॉरपोरेट कार्यालय पहले से वर्क इन होम (WFH) मोड से काम कर रहे हैं। और बहुत सीमित कर्मचारी आवश्यक सेवाओं को बनाए रखने के लिए रोटेशन के आधार पर दफ्तर पहुंच कर काम कर रहे हैं। इससे पहले कंपनी ने कहा कि वह अपने स्थायी और संविदा कर्मचारियों सहित सभी कर्मचारियों के कोविड-19 टीकाकरण में होने वाला खर्च को वहन करेगी।