त्रिपुरा में पिछले दिनों शांतिपूर्ण ढंग से विरोध कर रहे प्रदर्शनकारियों पर वहां की पुलिस द्वारा गोलीबारी कर 18 से अधिक लोगों  के घायल करने की घटना के विरोध में उत्तर-पूर्व छात्र संघ (नेसो) ने पूर्वोत्तर क्षेत्र में काला दिवस मनाया। गुवाहाटी सहित राज्य के विभिन्न हिस्सों सहित पूर्वोत्तर के अन्य राज्यों में भी त्रिपुरा में शांतिपूर्ण ढंग से आंदोलन कर रहे प्रदर्शनकारियों पर पुलिस की गोलीबारी की घटना की निंदा की और इसके विरोध  में चेहरे पर काला कपड़ा बांधकर किया।

इसके साथ ही नागरिकता (संशोधन) विधेयक-2019 के विरोध में भी राज्य के विभिन्न हिस्सों में विभिन्न दल-संगठनों ने विरोध प्रदर्शन किया। आंदोलनकारी संगठनों ने किसी भी कीमत पर इस विधेयक को पारित होने से रोकने पर बल दिया और केंद्र तथा राज्य सरकार के खिलाफ जमकर नारे भी लगाए।


ब्रह्मपुत्र सिविल सोसाइटी नामक संगठन के नेता तथा गुवाहाटी उच्च न्यायालय के वरिष्ठ अधिवक्ता हाफिज रशीद चौधरी ने नागरिकता विधेयक को लेकर वित्त मंत्री डॉ. हिमंत विश्व शर्मा को निशाने पर लेते हुए कहा कि जिन्ना का नाम लेकर उन्होंने आरोप लगाया कि हिमंत और एआईयूडीएफ प्रमुख मौलाना बदरूद्दीन अजमल के बीच गुप्त समझौता हुआ हैं। उन्होंने इस तरह की कथित ओछी राजनीति से बाज आने की हिमंत को चेतावनी दी है।