झारखंड के बाद अब ​बिहार में भी भाजपा और जनता दल यूनाईटेड को धक्का लग सकता है। हाल ही में एक जेडीयू नेता लालू यादव से जा मिले थे। अब झारखंड के मुख्यमंत्री मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने भी मोर्चा संभाल लिया है। मुख्यमंत्री ने बिन्ध्याचल धाम में मां बिन्ध्यवासिनी देवी के दर्शन कर पूजन किया। श्री सोरेन यहां मनौती पूरी होने के बाद मां के प्रति कृतज्ञता ज्ञापित करने पहुंचे थे। उन्होंने पूरे विधि-विधान से पूजा की। धार्मिक कर्म काण्ड कर यज्ञशाला में हवन भी किया। उनके स्थानीय पुरोहित पंडा राजा मिश्र एवं कर्मकांडी पंडितों की टीम ने सम्पूर्ण पूजन को सम्पन्न कराया।

इस अवसर पर पर जिला अधिकारी सुशील पटेल समेत तमाम आला अधिकारी मौजूद थे। झारखंड के मुख्यमंत्री के यहां आने की सूचना उनके पुरोहित को एक सप्ताह पहले से ही थी। यहां उनके आने को लेकर चर्चा भी जारी थी। श्री हेमन्त सोरेन चुनाव के पहले यहां आये थे। तब उन्होंने मां से चुनाव में विजय का आशीर्वाद मांगा था।

मुख्यमंत्री बनने के बाद मनौती पूर्ण होने की कृतज्ञता ज्ञापित करने आये। बिन्ध्याचल धाम जहाँ आध्यात्मिक क्षेत्र में विख्यात है वहीं राजनैतिक मनौती का भी बहुत बड़ा केंद्र हैं। बड़ी बड़ी राजनीतिक हस्तियां मां बिन्ध्यवासिनी देवी के दरबार में हाजिरी लगा कर मन्नत मांगते है। मनोवांछित सफलता के बाद कृतज्ञता ज्ञापित करने की परम्परा अति प्राचीन है। मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन की इस यात्रा को भी मन्नत पूरी होने के बाद मां के दरबार में हाजिरी लगाने की प्राचीन परंपरा के रूप में देखा जा रहा है। हालांकि वे खुद और उनके पुरोहित इसे नीजी धार्मिक यात्रा बताते हैं।

अब हम twitter पर भी उपलब्ध हैं। ताजा एवं बेहतरीन खबरों के लिए Follow करें हमारा पेज : https://twitter.com/dailynews360