कर्नाटक के तटवर्ती क्षेत्रों और केरल में पूर्वोत्तर मानसून के सक्रिय होने के साथ ही तमिलनाडु, पुड्डुचेरी, कराईकल, केरल और माहे के कुछ क्षेत्रों में में अगले 24 घंटों के दौरान भारी बारिश हो सकती है। भारतीय मौसम विभाग ने यहां एक बुलेटिन में यह जानकारी दी। मौसम विभाग ने बताया कि छत्तीसगढ़, मध्य महाराष्ट्र, मराठवाड़ा, कोंकण, गोवा, तटीय आंध्र प्रदेश, यनम, तेलंगाना, कर्नाटक, लक्षद्वीप के कुछ स्थानों में भी इस दौरान भारी बारिश हो सकती है।


पूर्व-मध्य और दक्षिण-पूर्व अरब सागर, लक्षद्वीप, दक्षिण-पश्चिम बंगाल की खाड़ी, कन्याकुमारी, और महाराष्ट्र-कर्नाटक-केरल से लगे क्षेत्रों में अगले 24 घंटों के दौरान तूफानी हवाएं चल सकती हैं और इस दौरान मछुआरों को इन क्षेत्रों में नहीं जाने की सलाह दी गई है। इस दौरान अंडमान निकोबार में 50-60 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से तेज हवाएं चलने और बिजली गिरने की आशंका है।


जम्मू-कश्मीर में भी गरज के साथ बारिश हो सकती है। मध्य प्रदेश, विदर्भ, छत्तीसगढ़, बिहार, झारखंड, पश्चिम बंगाल के गंगा नदी वाले क्षेत्र, ओडिशा, मध्य महाराष्ट्र, मराठवाड़ा, कोंकण, गोवा तटीय आंध्र प्रदेश, यनम, तेलंगाना, रायलसीमा, कर्नाटक, तमिलनाडु, पुड्डुचेरी, कराईकल और माहे में गरज के साथ छींटे पडऩे का पूर्वानुमान है। विदर्भ, मध्य महाराष्ट्र, मराठवाड़ा, कोंकण, गोवा, तटीय एवं उत्तरी आंतरिक कर्नाटक, केरल, अंडमान निकोबार द्वीप और लक्षद्वीप के अधिकतर क्षेत्रों में पिछले 24 घंटों के दौरान बारिश या गरज के साथ छीटें पड़े हैं। इस दौरान झारखंड, पूर्वी मध्य प्रदेश, तटीय आंध्र प्रदेश, तेलंगाना और दक्षिण आंतरिक कर्नाटक के साथ -साथ छत्तीसगढ़ और तमिलनाडु के कुछ क्षेत्रों में भी बारिश हुई है।


असम, मेघालय, नागालैंड मणिपुर, मिजोरम, त्रिपुरा, पश्चिम बंगाल के गंगा नदी वाले क्षेत्र, ओडिशा, बिहार, पूर्वी उत्तर प्रदेश, हिमाचल प्रदेश, जम्मू-कश्मीर, पश्चिम मध्य प्रदेश, गुजरात और रायलसीमा में भी इस दौरान बारिश हुई। इस बीच, तटीय आंध्र प्रदेश, केरल और माहे के कई क्षेत्रों में गरज के साथ बारिश हुई। पूर्वी उत्तर प्रदेश, तमिलनाडु, पुड्डुचेरी, कराईकल, पश्चिम बंगाल के गंगा नदी वाले क्षेत्र, पूर्वी मध्य प्रदेश, मध्य महाराष्ट्र, तटीय एवं उत्तरी कर्नाटक, बिहार, कोंकण, गोवा, तेलंगाना और झारखंड के कुछ इलाकों में भी गरज के साथ छींटे पड़े। इस बीच अरुणाचल प्रदेश, उप-हिमालयी पश्चिम बंगाल, सिक्किम, पश्चिम उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, हरियाणा, पंजाब और राजस्थान में मौसम शुष्क रहा।


असम, मेघालय, नागालैंड, मणिपुर, मिजोरम और त्रिपुरा में दिन का तापमान सामान्य से अत्यधिक ऊपर रहा। अरुणाचल प्रदेश, पश्चिम बंगाल, ओडिशा और केरल, असम, मेघायल के कुछ हिस्सों में भी तापमान सामान्य से अधिक रहा। पश्चिम मध्य प्रदेश, कोंकण, गोवा, मध्य महाराष्ट्र और विदर्भ के कुछ हिस्सों में दिन का तापमान सामान्य से कम रहा। बिहार, पश्चिम उत्तर प्रदेश, मराठवाड़ा, तटीय आंध्र प्रदेश और तेलंगाना के कुछ हिस्सों में भी दिन का तापमान सामान्य से कम रहा। पूर्वी उत्तर प्रदेश, जम्मू-कश्मीर, राजस्थान, गुजरात, छत्तीसगढ़, तमिलनाडु, और आंतरिक कर्नाटक के कुछ स्थानों और मध्य प्रदेश, विदर्भ और तेलंगाना के शेष हिस्सों में भी तापमान सामान्य से नीचे रहा।


सबसे अधिक उच्च्तम तापमान 38.1 डिग्री सेल्सियस राजस्थान के बाड़मेर में दर्ज किया गया। असम और मेघाल के कुछ क्षेत्रों में रात का तापमान सामान्य से नीचे रहा। उत्तर प्रदेश और मध्य प्रदेश के कुछ हिस्सों में रात का तापमान सामान्य से अधिक रहा। उप-हिमालयी पश्चिम बंगाल, सिक्किम, नागालैंड, मणिपुर, मिजोरम, त्रिपुरा, बिहार, पूर्वी राजस्थान, गुजरात ओर मध्य महाराष्ट्र के कुछ स्थानों में रात का तापमान सामान्य से अत्यधिक ऊपर रहा। पश्चिम बंगाल, ओडिशाा, झारखंड, उत्तराखंड, पश्चिम राजस्थान, छत्तीसगढ़, तेलंगाना, तमिलनाडु, दक्षिण आंतरिक कर्नाटक के कुछ क्षेत्रों और असम, मेघायल, उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश और गुजरात के कुछ क्षेत्रों में भी रात का तापमान सामान्य से ऊपर रहा। शेष क्षेत्रों में रात का तापमान सामान्य रहा। सबसे न्यूनतम तापमान 15.0 डिग्री सेल्सियस पूर्वी राजस्थान के सीकर में दर्ज किया गया।