तिरुवनंतपुरम। केरल के मुख्य सचिव डॉ. वीपी जॉय ने राज्य में अगले तीन दिन भारी बारिश के अनुमान के बाद यहां के विभिन्न जिलों में रेड, ऑरेन्ज और येलो अलर्ट जारी किये जाने के मद्देनजर सभी जिलाधिकारियों को अपने-अपने जिलों में एहतियाती कदम उठाने के निर्देश दिए हैं। मुख्य सचिव ने शनिवार शाम बुलाई गई एक आपात बैठक में कहा, भूस्खलन और बाढ़ की आशंका वाले क्षेत्रों से लोगों को निकाला जाना चाहिए। जरूरत पड़े तो शिविर भी शुरू किए जा सकते हैं। 

यह भी पढ़ें- ग्रीनफील्ड हवाई अड्डा कर रहा है चाय श्रमिकों के जीवन और आजीविका को तहस नहसः सांसद राजदीप रॉय

इन इलाकों में भोजन और पीने के पानी सहित बुनियादी सुविधाएं सुनिश्चित करनी चाहिए।'' सूत्रों ने बताया कि भूस्खलन और बाढ़ की आशंका वाले क्षेत्रों में विशेष अलर्ट सिस्टम स्थापित किया गया है। राज्य में नियंत्रण कक्ष 24 घंटे काम कर रहे हैं। मौसम विभाग के सूत्रों ने रविवार को बताया कि एर्नाकुलम और इडुक्की जिले में रेड अलर्ट जारी किया गया है, जबकि यहां के कुछ पहाड़ी इलाकों में ऑरेन्ज अलर्ट जारी किया गया है, जहां कुछ दिनों पहले भारी बारिश हुई थी और आगे भी गरज के साथ बौछारें पडऩे का अनुमान है। 

यह भी पढ़ें- असम सरकार का युवाओं को दिया शानदार तोहफा, 11 सरकारी विभागों में लगभग 23,000 जॉब्स का सौंपा नियुक्ति पत्र

तिरुवनंतपुरम, त्रिशूर, मलप्पुरम, कोझिकोड और वायनाड में ऑरेंज अलर्ट जारी किये गये हैं। मौसम विभाग ने राज्य के कुछ अन्य जिलों में येलो अलर्ट जारी किया है, लेकिन निचले, नदी के किनारे और पहाड़ी इलाकों में भूस्खलन की आशंका के मद्दनेजर इन्हें हाई अलर्ट पर रखा गया है।