जहां भारत इस वक्त मॉनसून की झमाझम बारिश से भीग रहा है, वहीं पड़ोसी देश का भीषण गर्मी से बुरा हाल हो चुका है। दरअसल चीन की राष्ट्रीय वेधशाला ने देश के कई क्षेत्रों में और अधिक भीषण गर्मी पड़ने के मद्देनजर उच्च तापमान के लिए रेड अलर्ट जारी किया। चीन के मौसम विज्ञान केन्द्र के अनुसार, देश के शानक्सी, अनहुई, हुबेई, हुनान, जियांग्शी, झेजियांग, शंघाई, फुजियान, सिचुआन, चोंगकिंग, गुइझोउ, गुआंग्शी और ग्वांगडोंग के कुछ हिस्सों में बुधवार दोपहर के दौरान 35 से 39 डिग्री सेल्सियस के उच्च तापमान रहने के अनुमान है। 

ये भी पढ़ेंः Train Accident : महाराष्ट्र के गोंदिया में एक बड़ा ट्रेन हादसा, पैसेंजर ट्रेन और माल गाड़ी के बीच हुई टक्कर, कई घायल


उन्होंने बताया कि सिचुआन, चोंगकिंग, हुनान, जियांग्शी और झेजियांग के कुछ हिस्सों में तापमान 40 डिग्री सेल्सियस से अधिक रहने के आसार हैं। वेधशाला ने स्थानीय अधिकारियों को हीटवेव से बचाव संबंधी आपातकालीन उपाय करने, उच्च तापमान के संपर्क में आने वाले बाहरी काम को स्थगित करने, अग्नि सुरक्षा पर पूरा ध्यान देने और कमजोर समूहों का विशेष ध्यान रखने की सलाह दी। 

ये भी पढ़ेंः एलर्जी वाली खांसी होते ही दिखते हैं ये लक्षण, इन घरेलू टिप्स से तुरंत पाएं छुटकारा


बता दें कि दुनिया के कई देश गर्मी से जूझ रहे हैं। इन देशों में अब ब्रिटेन का नाम सबसे ऊपर है। ब्रिटेन में पहली बार 40 डिग्री सेल्सियस के तापमान का अनुमान लगाया गया है और मौसम विभाग ने असाधारण गर्मी के लिए पहली बार रेड अलर्ट जारी किया है। मौसम विभाग के मुताबिक, अगले हफ्ते की शुरुआत में इंग्लैंड के बड़े हिस्से में असाधारण गर्मी की संभावना है। स्पेन और फ्रांस में बढ़ते तापमान का असर ब्रिटेन में भी महसूस किया जाने लगा है। बढ़ते तापमान के चलते ब्रिटेन राष्ट्रीय हीटवेव अलर्ट जारी किया गया है। भीषण गर्मी से निपटने के उपायों पर चर्चा करने के लिए वरिष्ठ अधिकारियों की बैठकें होने लगी हैं। ब्रिटेन में यह स्थिति फ्रांस और स्पेन में पड़ रही भीषण गर्मी के चलते आई है। मध्य स्पेन में 43 डिग्री सेल्सियस तापमान रिकार्ड किया गया। इसके असर से इंग्लैंड और वेल्स में भी तापमान 35 डिग्री सेल्सियस तक पहुंच गया है। इसको देखते हुए एंबर हीट वार्निग जारी की गई है।