पंजाब विधानसभा चुनावों में चौंकाने वाला परिणाम सामने आया है। वो ये है कि पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह को पटियाला विधान सभा सीट से हार का सामना करना पड़ा है और उन्हें 19797 वोटों से आम आदमी पार्टी के उम्मीदवार अजितपाल सिंह कोहली ने मात दी।

यह भी पढ़ें :  चांद सी निखर जाती है पोटलोई ड्रेस पहनने वाली दुल्हन, जानिए मणिपुरी कैसे करते हैं इसें तैयार

इसी के साथ ही पंजाब में सभी सीटों के रुझान आ गए है। इसमें आम आदमी पार्टी को स्पष्ट बहुमत मिल गया है। इस बीच आम आदमी पार्टी के नेता हरपाल सिंह चीमा (Harpal Singh Cheema) काफी सुर्खियों में बने हुए हैं। माना जा रहा है कि पंजाब में अगर AAP की सरकार बनती है, जो चीमा को डिप्टी सीएम का पद दिया जा सकता है। उन्होंने परिणाम जारी होने से पहले कहा था कि राज्य में AAP की सरकार बनने जा रही है और एग्जिट पोल पर संदेह करने का कोई कारण नहीं है।

बता दें कि 2017 में हुआ विधानसभा चुनाव में हरपाल सिंह चीमा ने अकाली दल के गुल्जार सिंह मूनक और कांग्रेस नेता अजाइब सिंह रोतलान को मात देकर इस सीट पर जीत दर्ज की थी। वह अब एक बार फिर इसी सीट से चुनाव लड़ रहे हैं। चीमा पेशे से वकील हैं।

यह भी पढ़ें :  अरुणाचल में है दुनिया का सबसे ऊंचा प्राकृतिक शिवलिंग, आकार देखकर दंग रह जाते हैं लोग

चुनाव परिणामों से एक दिन पहले ही चीमा ने विरोली दलों पर इल्जाम लगाया था कि वह पंजाब में AAP को सत्ता में आने से रोकने के लिए हाथ मिला रहे हैं। उन्होंने कैप्टम अमरिंदर सिंह और सीएम चरणजीत सिंह चन्नी की केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह के साथ हुई मुलाकात पर सवाल खड़े किए थे।

बता दें कि आप के नेता हरपाल सिंह चीमा पंजाब विधानसभा में विपक्ष के नेता और संगरूर जिले के दिर्बा विधानसभा क्षेत्र से विधायक हैं। चीमा ने 2017 पंजाब विधानसभा चुनाव से पहले AAP की सदस्यता ली थी। फिर उन्होंने 2017 में पंजाब विधानसभा चुनाव में दिर्बा विधानसभा क्षेत्र से चुनाव लड़ा था। वो जाने माने पंजाबी कब्बडी खिलाड़ी गुल्जार सिंह मूनक के खिलाफ चुनावी मैदान में उतरे थे। मूनक ने शिरोमणि अकाली दल (SAD) के टिकट पर चुनाव लड़ा था।