पंजाब कांग्रेस (Punjab Congress) में चल रही सियासी खींचतान के बीच आज पंजाब में पार्टी के पूर्व प्रभारी हरीश रावत (Harish Rawat)  ने प्रेस कॉन्फ्रेंस की. प्रेस कॉन्फ्रेंस में हरीश रावत (Harish Rawat)  ने राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह (Amarinder Singh)  पर कई सवाल उठाए. हरीश रावत ने कहा कि पार्टी ने अमरिंदर सिंह (Amarinder Singh)  का कभी अपमान नहीं किया. सीएलपी के बैठक से पहले तीन दिनों तक अमरिंदर मुझसे नहीं मिले. बावजूद इसके पार्टी ने उन्हें हर फैसले के बारे में जानकारी दी.

हरीश रावत (Harish Rawat) ने कहा, अमरिंदर सिंह (Amarinder Singh) ने कहा कि मुझे सीएलपी की बैठक के बारे में जानकारी नहीं दी गई, लेकिन मैं सच कहूं तो मैं तीन दिनों तक अमरिंदर सिंह (Amarinder Singh) से मिलने की कोशिश करता रहा, लेकिन वह नहीं मिले. रावत ने कहा कि अमरिंदर को पार्टी के हर फैसले के बारे में पूरी जानकारी थी.

हरीश रावत (Harish Rawat) ने आगे कहा, दो-तीन दिनों से अमरिंदर सिंह के जो बयान आए हैं, उससे लगता है कि वो किसी प्रकार के दबाव में हैं. सत्तारूढ़ दल (BJP) जिसको पंजाब के किसान, पंजाब के लोग पंजाब का विरोधी मानते हैं, वह अमरिंदर सिंह (Amarinder Singh) को मुखौटे के रूप में इस्तेमाल करना चाहते हैं.

गौरतलब है कि कांग्रेस ने अब हरीश रावत (Harish Rawat) की जगह हरीश चौधरी को पंजाब का पार्टी प्रभारी बनाया है. हरीश रावत (Harish Rawat) लंबे वक्त तक पंजाब में पार्टी के प्रभारी रहे. उन्हें इस पद पर रहने के दौरान ही सीएलपी बैठक बुलाई गई थी और अमरिंदर सिंह (Amarinder Singh)  ने मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा दिया था.