पाकिस्तानी नौसेना के मरीन के सेनिकों को भारतीय मछुआरों की बोट पर हमला कर एक व्यक्ति की हत्या करना भारी पड़ गया है। इसको लेकर गुजरात पुलिस (Gujarat Police) ने ‘पाकिस्तान नौवहन सुरक्षा एजेंसी’ (PMSA) के 10 कर्मियों के खिलाफ हत्या और हत्या के प्रयास के आरोप में रिपोर्ट दर्ज की है। गुजरात के अपतटीय क्षेत्र में अरब सागर में पीएमएसए के कर्मियों ने मछली पकड़ने वाली एक नौका पर गोली चला दी थी। इस घटना में चालक दल के एक सदस्य की मौत हो गई और अन्य एक घायल हो गया।

पुलिस के मुताबिक पीएमएसए (PMSA) के 10 कर्मियों के खिलाफ पोरबंदर जिले के नवी बंदर पुलिस थाने में रविवार रात भारतीय दंड संहिता की धारा 302 (हत्या), 307 (हत्या का प्रयास) और 114 के अलावा शस्त्र अधिनियम की संबंधित धाराओं के तहत प्राथमिकी दर्ज की गई। पोरबंदर जिले की पुलिस का क्षेत्राधिकार गुजरात तट से 12 समुद्री मील से अधिक है। इस रिपोर्ट के अनुसार 10 अज्ञात पीएमएसए कर्मियों पर शनिवार को मछली पकड़ने वाली एक भारतीय नाव ‘जलपरी’ पर गोलीबारी करने का आरोप है, जिसमें महाराष्ट्र के पालघर जिले के मछुआरे श्रीधर रमेश चमरे (32) की मौत हो गई थी। प्राथमिकी के मुताबिक दो नावों पर पीएमएसए के पांच-पांच कर्मी सवार थे।

इस पाकिस्तानी नौसेना की गोलीबारी (pakistan navy firing) दिलीप सोलंकी (34) नामक एक अन्य मछुआरा घायल हो गया जो दीव का रहने वाला है। उसका गुजरात के देवभूमि द्वारका जिले के ओखा तटीय शहर के एक अस्पताल में इलाज चल रहा है। मछली पकड़ने वाली नाव पर चालक दल के सात सदस्य थे। अब भारत ने पीएमएसए द्वारा अकारण की गयी गोलीबारी को गंभीरता से लिया है और इस मुद्दे को पाकिस्तान के साथ कूटनीतिक स्तर पर उठाएगा।