भारत में माल एवं सेवा कर यानि GST का कलेक्शन पिछले कुछ महीनों से लगातार बढ़ रहा है। अप्रैल महीने में जीएसटी कलेक्शन ने फिर से नया रिकॉर्ड बनाया है जिसके तहत मोदी सरकार मालामाल हो गई है। पिछले माह जीएसटी से सरकारी खजाने में रिकॉर्ड 1,67,540 करोड़ रुपये आए, जो किसी भी एक महीने में अब तक का सबसे ज्यादा है। इस तरह सरकार के लिए नए वित्त वर्ष की शुरुआत ही शानदार हो गई।

यह भी पढ़ें : मिजोरम में कोरोना के 83 नए मामले सामने आए, पिछले 24 घंटों में नहीं हुई किसी की मौत

Finance Ministry के के अनुसार अप्रैल 2022 में एक महीने पहले यानी मार्च 2022 की तुलना में 25 हजार करोड़ रुपये ज्यादा जीएसटी कलेक्शन हुआ। मार्च 2022 में सरकार को जीएसटी से 1,42,095 करोड़ रुपये प्राप्त हुए थे। अप्रैल 2022 में सरकारी खजाने को जीएसटी से जो रकम हासिल हुई है, वह साल भर पहले यानी अप्रैल 2021 की तुलना में 20 फीसदी ज्यादा है।

अप्रैल 2022 में सरकार को सेंट्रल जीएसटी से 33,159 करोड़ रुपये प्राप्त हुए। इसके अलावा सरकार को स्टेट जीएसटी से 41,973 करोड़ रुपये और इंटीग्रेटेड जीएसटी से 81,939 करोड़ रुपये प्राप्त हुए। इंटीग्रेटेड जीएसटी में सामानों के आयात से प्राप्त 36,705 करोड़ रुपये का कलेक्शन भी शामिल है। सरकार को सेस से 10,649 करोड़ रुपये प्राप्त हुए, जिसमें सामानों के आयात से मिले 857 करोड़ रुपये भी शामिल हैं। इस तरह अप्रैल 2022 में करीब 1.68 लाख करोड़ रुपये के जीएसटी कलेक्शन का रिकॉर्ड बना।

यह भी पढ़ें : इंडियन आर्मी मणिपुर में स्थापित करेगी 'रेड शील्ड सेंटर', जानिए क्या होगा फायदा

वित्त मंत्रालय ने साथ में यह भी बताया कि सरकार पहले ही इंटीग्रेटेड जीएसटी से सेंट्रल जीएसटी में 33,423 करोड़ रुपये और स्टेट जीएसटी में 26,962 करोड़ रुपये का सेटलमेंट कर चुकी है। इस तरह रेगुलर सेटलमेंट के बाद अप्रैल 2022 में केंद्र सरकार और राज्य सरकारों का कुल राजस्व सेंट्रल जीएसटी से 66,582 करोड़ रुपये और स्टेट जीएसटी से 68,755 करोड़ रुपये रहा। ऐसा पहली बार हुआ है, जब ग्रॉस जीएसटी कलेक्शन 1.50 लाख करोड़ रुपये के पार निकला है।