यूपी के औरैया जनपद में दूल्हे द्वारा हिंदी का अखबार न पढ़ पाने की वजह से शादी टूट गई और इतना ही नहीं बल्कि दूल्हे पक्ष के खिलाफ केस भी दर्ज कराया गया है। बिना चश्मे के नहीं पढ़ पाना लड़के के लिए अभिशाप बन गया और शादी भी टूटी। दुल्हन भी न मिली और लड़की पक्ष की तरफ से केस भी दर्ज हो गया।

दरअसल, जिस घर में 2 दिन पूर्व मंगलगीत गाए जा रहे थे। वहीं घर के दरवाजे पर बारात पहुंचते ही लड़के को द्वारचार के दौरान चश्मे में देख कर सभी के होश उड़ गए। दरअसल, लड़की वालों ने जो आरोप लगाया वह लड़के को बिना चश्मे के कुछ दिखाई नहीं देता।

पूरा मामला उत्तर प्रदेश के औरैया जनपद के सदर औरैया कोतावली क्षेत्र के ग्राम जमालीपुर का है। इस गांव में रहने वाले अर्जुन सिंह ने अपनी बेटी अर्चना की शादी शिवम निवासी बंशी थाना अछल्दा में तय की।

इसके बाद सारी तैयारियों के साथ लग्न उत्सव एवं शादी की तारीख भी तय हो गई। इस पर लड़की वालों ने अपनी तैयारियां कर ली। दहेज में मोटरसाइकिल व नकदी देकर लगुन चढ़ाई गई। इसके बाद तय तारीख 20 जून को जब बारात घर पर आई तो दूल्हे द्वारा इस दौरान लगातार पूरे समय नजर का चश्मा लगाए रहने की वजह से घर की महिलाओं को संदेह एवं लड़की के पिता को चश्मे को लेकर शक हुआ।

इस पर द्वारचार के दौरान शादी कराने वाले बिचौलिए से चश्मा हटाने के लिए कहा गया। इस पर जब लड़के से यानी दूल्हा बने शिवम से मांगलिक कार्य करने को कहा तो वह बिना चश्मा के देख ही नहीं सकता था। उसकी नजर काफी कमजोर थी।

यह देख-सुनकर वधू यानी अर्चना के द्वारा शादी करने से मना कर दिया गया जिस पर लड़की पक्ष के सभी लोगों ने एकमत होकर लड़का पक्ष से शादी करने से मना कर दिया गया तथा दहेज इत्यादि में दिए गए नकद व गाड़ी को वापस करने तथा जो भी शादी में खर्चा हुआ, सभी की वापसी की मांग की। लड़के पक्ष द्वारा कुछ भी देने से मना कर दिया गया जिस पर लड़की पक्ष द्वारा कोतवली औरैया में तहरीर देकर केस दर्ज करवाया है।