यूपी के फर्रुखाबाद से एक हैरान करने वाला सामने आया है। द्वारचाल की रस्म के दौरान दूल्हा 2100 रुपए नहीं गिन पाया। इतना ही नहीं वो रेजगारी भी गिन सका। दुल्हन के भाई ने इसकी जानकारी बहन को दी। इसके बाद दुल्हन भड़क गई और उसने शादी से इनकार कर दिया। दुल्हन का कहना था कि मुझे अंगूठा टेक से शादी नहीं करनी है। पूरी रात दुल्हन को मनाने का सिलसिला चलता रहा। इसके बाद थाने में पंचायत चलती रही। दूल्हे और दुल्हन पक्ष के लोगों के बीच समझौता होने के बाद बारात बैरंग लौट गई।

ये भी पढ़ेंः जंगल में मिला इतना विशालकाय Monster मेढक, देखकर ही उतार दिया गया मौत के घाट, जानिए कितना था खतरनाक


मोहम्मदाबाद थाना क्षेत्र के दुर्गूपुर गांव में रहने वाली युवती की शादी मैनपुरी जिले के थाना बिछमा के गांव बबीना सारा (मध्य प्रदेश) में रहने वाले सूरजपाल के बेटे अमन से तय हुई थी। बबीना सारा गांव के बहोरनलाल ने बिचवानी थे। बहोरनलाल ने अमन की शादी दुर्गूपुर निवासी युवती से तय कराई थी। बिचवानी बहोरनलाल ने दुल्हन के परिजनों को यह नहीं बताया था कि दुल्हा अनपढ़ है। बारात दुल्हन के दरवाजे पर पहुंची थी। बाराती नाचते गाते दुल्हन के दरवाजे पर पहुंचे थे। बाराती खाना खाने चले गए और दुल्हन के घर के बाहर द्वारचार की रस्म होने लगी। इस दौरान दुल्हन के भाई ने 2100 रुपए दुल्हे को गिनने के लिए दे दिए। काफी देर तक दूल्हा रुपया गिनता रहा, लेकिन वो गिन नहीं पाया। इस पर दुल्हन के भाई को कुछ शक हुआ, तो उसने दूल्हे को रेजगारी गिनने के लिए दे दिया, लेकिन दूल्हा रेजगारी भी नहीं गिन सका। उसने यह बात अपनी बहन को बताई। दुल्हन को जब इस बात की खबर मिली, तो वह भड़क गई। उसने शादी से इनकार कर दिया। 

ये भी पढ़ेंः भारत में इन सरकारी नौकरियों में मिलती है सबसे ज्यादा सैलरी, जानिए कितनी मिलती है सुविधाएं


दुल्हन का कहना था कि यह मेरी जिंदगी का सवाल है। मैं किसी अंगूठाछाप से शादी नहीं कर सकती हूं। इस बात पर हंगामा होने लगा। लड़की पक्ष ने 112 पर पुलिस को सूचना दे दी थी। मौके पर पहुंची पुलिस ने दोनों पक्षों को कोतवाली ले गई। दुल्हन हाईस्कूल पास है, कन्यापक्ष के लोग बिचवानी पर सही जानकारी नहीं देने का आरोप लगाया। लड़की और दूल्हे पक्ष के लोग पूरी रात दुल्हन को मनाने की कोशिश करते रहे, लेकिन दुल्हन अपनी जिद पर अड़ी रही। कोतवाली में दोनों पक्षों के बीच समझौते पर भी सहमति नहीं बन पा रही थी। इसके बाद आपसी सहमति बनी कि जो खर्च हुआ है, वो कोई किसी नहीं देगा। कोई पक्ष किसी को कोई लेनदेन नहीं करेगा। इसके बाद बिन दुल्हन बारात वापस लौट गई।