कई देशों में कोरोना (Corona) ने एक बार फिर रफ्तार पकड़ ली है। इसमें चीन, हांगकांग, सिंगापुर और दक्षिण कोरिया शामिल हैं। ऐसे में स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मंडाविया (Health Minister Mansukh Mandaviya) ने जीनोम अनुक्रमण और गहन निगरानी के साथ उच्च स्तर की सतर्कता बरतने की बात कही है। देश में कोविड-19 की स्थिति और टीकाकरण (corona vaccine) की प्रगति के आंकलन करने के लिए बुधवार को मंडाविया की अध्यक्षता में हुई समीक्षा बैठक के दौरान यह निर्देश दिए गए। 27 मार्च से अंतरराष्ट्रीय उड़ानों की अनुमति देने के फैसले की भी समीक्षा की गई। अधिकारी ने कहा कि इस संबंध में अभी तक कोई निर्णय नहीं लिया गया है।

ये भी पढ़ेंः यूक्रेन में रूसियों ने मचाया कहर, अमेरिका ने खोली लाशों की संख्या की पोल


सूत्रों ने कहा कि बैठक में स्वास्थ्य सचिव, फार्मा सचिव और सरकार के प्रमुख वैज्ञानिक सलाहकार सहित शीर्ष स्वास्थ्य अधिकारियों ने भाग लिया। नीति आयोग (NITI Aayog) के सदस्य (स्वास्थ्य) वीके पॉल, आईसीएमआर (ICMR) के महानिदेशक बलराम भार्गव, नेशनल सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल (एनसीडीसी) के प्रमुख सुरजीत सिंह और अन्य अधिकारी भी मौजूद थे। भारत में बुधवार को 2,876 नए मामले सामने आए, जबकि सक्रिय मामलों की संख्या में गिरावट आई। सरकार ने किसी भी तरह की लापरवाही के प्रति आगाह किया है।

ये भी पढ़ेंः IPCC की रिपोर्ट ने मचाई खलबली! ग्लोबल वार्मिंग में सिक्किम का है सबसे अधिक योगदान


वहीं चीन में कोरोना वायरस (कोविड-19) महामारी के 1,226 नये मामले (corona cases in china) समाने आये है। राष्ट्रीय स्वास्थ्य आयोग ने गुरूवार को यह जानकारी दी है। आयोग ने बताया कि नए मामलों में से जिलिन प्रांत में 742, फुयिन प्रांत में 99, ग्वांगडोंग प्रांत में 83 और लियाओनिंग प्रांत में 62 मामले दर्ज किए गए है। उन्होंने बताया कि राजधानी बीजिंग में चार मामलों सहित 12 से अधिक प्रांतों के क्षेत्रों में भी नये मामले देखे गए है। आयोग की दैनिक रिपोर्ट के अनुसार बुधवार को 91 बाहर से आये लोगों के मामले सामने आए है। आयोग ने कहा कि आठ नए संदिग्ध मामले शंघाई में बाहर से आये हुए लोगों के सामने आए है। इस दौरान इस बीमारी से कोई मौत नहीं हुई।