प्याज की कीमतें जल्द कम होंगी क्योंकि सरकार जल्द 1 लाख टन बफर स्टॉक जारी करने जा रही है। इस वजह से प्याज की आपूर्ति बढ़ने से कीमतों में नरमी आ जाएगी। केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने बताया कि आम लोगों को राहत पहुंचाने के लिए सरकार एक लाख टन बफर स्टॉक रिलीज कर रही है।

कृषि मंत्री तोमर ने कहा कि प्याज की कीमतों को काबू करने के लिए हमने वक्त पर एक्सपोर्ट पर रोक लगाई और इंपोर्ट के रास्ते खोले हैं, अब National Agricultural Cooperative Marketing Federation (NAFED) एक लाख टन प्याज का बफर स्टॉक जारी कर रहा है।

सरकारी आंकड़ों के अनुसार, चेन्नई में थोक प्याज की कीमतें 76 रुपये प्रति किलोग्राम से कम होकर 24 अक्टूबर को 66 रुपये प्रति किलोग्राम पर आ गईं। इसी तरह, मुंबई, बेंगलुरू और भोपाल में भी दरें 5-6 रुपये प्रति किलो गिरकर 70 रुपये प्रति किलोग्राम, 64 रुपये प्रति किलोग्राम और 40 रुपये प्रति किलोग्राम हो गईं। इन उपभोग बाजारों में दैनिक आवक में कुछ सुधार होने के बाद कीमतों में गिरावट आई है।

महाराष्ट्र के लासलगांव में प्याज के भाव पांच रुपये की गिरावट आई है और यह 51 रुपये किलो पर आ गया है। लासलगांव एशिया में प्याज की सबसे बड़ी थोक मंडी है। आंकड़ों के मुताबिक, दुनिया की सबसे बड़ी सब्जी मंडी दिल्ली की आजादपुर मंडी में प्याज की दैनिक आवक बढ़कर 530 टन से अधिक हो गई है। मुंबई में आवक 885 टन से बढ़कर 1,560 टन हो गई है. दैनिक आवक चेन्नई में 1,120 टन से बढ़कर 1,400 टन और बेंगलुरु में 2,500 टन से बढ़कर 3,000 टन तक पहुंच गई है। हालांकि, लखनऊ, भोपाल, अहमदाबाद, अमृतसर, कोलकाता और पुणे जैसे शहरों में अभी आवक नहीं सुधरी है।