कोरोना वायरस का संक्रमण अभी पूरे देेश में फैल रहा है और इसके साथ ही अफवाहें भी उसी रफ्तार में फैल रही हैं। कोरोना से बचने का उपाय मिल गया है कि वैक्सीन लगाने, सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करने और मास्क पहनने से हम इस पर काबू पा सकते हैं। मगर अफवाहों को फैलने से रोकने का अब तक कारगर हथियार नहीं मिल पाया है। इसी कड़ी में सोशल मीडिया पर एक दावा किया जा रहा है कि कोरोना से मौत होने पर सरकार करीब 4 लाख का मुआवजा देती है और उसका एक फॉर्म भी वायरल हो रहा है। तो चलिए जानते हैं इस वायरल दावे के पीछे की सच्चाई।

सोशल मीडिया पर एक फर्जी फॉर्म वायरल हो रहा है, जिसमें दावा किया जा रहा है कि राज्य आपदा मोचक निधि के अंतर्गत कोरोना के कारण मृत्यु होने पर 4,00,000 रूपये की सहायता देने का प्रावधान है। लोग इस दावे को सच मान रहे हैं और इसे धड़ल्ले से शेयर भी कर रहे हैं। मगर हकीकत यह है कि यह दावा पूरी तरह से फर्जी है।

हालांकि पड़ताल में यह पाया है कि यह दावा पूरी तरह से फर्जी है। उसने कहा है कि राज्य आपदा मोचक निधि (SDRF) के अंतर्गत स्वीकृत मानदंडों में ऐसा कोई प्रावधान नहीं है। अब यह बात जब साबित हो गई है कि यह दावा फर्जी है तो इसे शेयर करने से आप भी बचें।