ब्रिटेन में कोरोनोवायरस का नया स्ट्रेन सामने आने के बाद केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्ष वर्धन ने सोमवार को स्पष्ट किया कि इसे लेकर घबराने की जरूरत नहीं है क्योंकि सरकार इस मामले में सतर्क है। 19 दिसंबर को ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन ने घोषणा की थी कि वायरस का नया स्ट्रेन 70 प्रतिशत अधिक संक्रामक है। स्वास्थ्य मंत्री मैट हैनकॉक के अनुसार, नया स्ट्रेन ‘नियंत्रण से बाहर’ है।

हर्ष वर्धन ने इंडिया इंटरनेशनल साइंस फेस्टिवल 2020 के दौरान एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा, ‘‘सरकार सतर्क है। घबराने की जरूरत नहीं है। काल्पनिक स्थिति, बातों और घबराहट में खुद को उलझने न दें।’ ’इससे पहले, केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने ब्रिटेन में कोरोनोवायरस के म्यूटेटेड स्ट्रेन के उद्भव पर चर्चा करने के लिए अपने शीर्ष सलाहकारों की एक आपातकालीन बैठक बुलाई। इससे मामलों में बड़े पैमाने पर उछाल आया और कई देशों को ब्रिटेन से आने वाली उड़ानों को रोकने के लिए प्रेरित किया।

संयुक्त निगरानी समूह की अध्यक्षता स्वास्थ्य सेवा महानिदेशक ने की। अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स), भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद (आईसीएमआर), विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) के प्रतिनिधि और अन्य लोग भी आपात बैठक का हिस्सा हैं। सऊदी अरब और कई यूरोपीय देशों, जिनमें इटली, बेल्जियम, फ्रांस और नीदरलैंड्स शामिल हैं, ने म्यूटेन्ट स्ट्रेन की खभर सामने आने के बाद ब्रिटेन से उड़ानों की आवाजाही पर प्रतिबंध लगा दिया है।