कोरोना महामारी के कारण शेड्यूल्ड अंतरराष्ट्रीय उड़ानों पर लगी रोक 31 जुलाई तक बढ़ा दी है। नागरिक उड्डयन महानिदेशालय (DGCA) आज एक बयान में कहा कि अंतरराष्ट्रीय वाणिज्यिक यात्री उड़ानों पर प्रतिबंध 31 जुलाई, 2021 तक लागू रहेगा। यह रोक उन अंतरराष्ट्रीय कार्गो फ्लाइट्स पर लागू नहीं होगी जिन्हें डीजीसीए ने अनुमति दी है। हालांकि कुछ चुने हुए रूट्स पर अंतरराष्ट्रीय उड़ानों की अनुमति दी जा सकती है।

कोरोना महामारी के कारण पिछले साल मार्च में अंतरराष्ट्रीय और घरेलू यात्री उड़ानों पर रोक लगाई गई थी। हालांकि घरेलू उड़ानों को मई 2020 में कुछ शर्तों के साथ बहाल कर दिया गया था लेकिन अंतरराष्ट्रीय उड़ानों पर रोक जारी रही। DGCA मार्च 2020 के बाद से कई बार अंतरराष्ट्रीय उड़ानों पर रोक बढ़ा चुका है। सरकार ने महामारी के कारण दुनिया अलग-अलग देशों में फंसे भारतीयों को वापस घर लाने के लिए वंदे भारत मिशन शुरू किया था।

विशेष अंतरराष्ट्रीय फ्लाइट 'वंदे भारत' मिशन के तहत पिछले साल मई से काम कर रही थी। कुछ देशों के साथ द्विपक्षीय ‘एयर बबल’ व्यवस्था भी की गई थी। भारत ने 27 देशों के साथ एयर बबल करार किया था, इसमें यूएस, यूके, यूएई, केन्या, भूटान और फ्रांस जैसे देश शामिल हैं। दो देशों को बीच हुए एयर बबल करार के तहत देशों की एयरलाइंस की विशेष अंतरराष्ट्रीय फ्लाइट दोनों देशों की क्षेत्र में उड़ान भर सकती हैं। लेकिन देश में कोविड की दूसरी लहर के प्रकोप के कारण कई देशों इसे भी रोक दिया था।