नई दिल्ली। केंद्रीय वाणिज्य, उद्योग, उपभोक्ता मामले, खाद्य एवं सार्वजनिक वितरण तथा कपड़ा मंत्री पीयूष गोयल (Piyush Goyal) ने मंगलवार को कहा कि केंद्र सरकार बिहार में टेक्सटाइल पार्क खोलने के अच्छे प्रस्ताव पर विचार करने को तैयार है। गोयल ने बिहार सरकार को सलाह दी है कि वह राज्य में औद्योगिक निवेश को आकर्षित करने के लिए देशभर में रोड शो आयोजित करें। वह दिल्ली हॉट में बिहार उत्सव 2022 को संबोधित कर रहे थे। 

यह भी पढ़ें- लगातार दूसरे दिन बढ़े पेट्रोल-डीजल के दाम , जानें आज कितना महंगा हुआ पेट्रोल-डीजल, क्या हैं नए रेट

उन्होंने कहा, 'बिहार हमें टेक्सटाइल पार्क अच्छा प्रस्ताव भेजें हम उस पर जरूर विचार करेंगे।' गोयल ने कहा कि बिहार में जल संसाधन प्रचुर मात्रा में उपलब्ध है। राज्य के लोगों में परंपरागत कौशल है। युवाओं में परिश्रम और पराक्रम भी है। जरूरत युवाओं को सरकारी नौकरी के मोह से निकाल कर कौशल उद्यमशीलता की ओर प्रेरित करने की है। कार्यक्रम में राज्य के उद्योग मंत्री शाहनवाज हुसैन, भारतीय जनता पार्टी की बिहार इकाई के संजय जायसवाल सांसद रमा देवी और अन्य प्रतिनिधि उपस्थित थे।

गोयल ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 2014 में केंद्र में सरकार का नेतृत्व संभालने के बाद सभी मंत्रियों को विकास से वंचित पूर्वी और पूर्वोत्तर के राज्यों पर विशेष ध्यान देने का निर्देश दिया था। बिहार में कई नई परियोजनाएं शुरू की गई, जिसमें बिजली और रेलवे की परियोजनाएं शामिल हैं। उन्होंने कहा कि बिहार में लोगों के पास हुनर है, जो यहां दिल्ली हाट में लगी चीजों की प्रदर्शनी में स्पष्ट दिखती है। वहां बड़ी संभावनाएं हैं। 

यह भी पढ़ें- अगले 24 घंटो में बदल जाएगा इन लोगों का भाग्य! बुध चमकाएंगे इन राशि वालों की किस्‍मत

गोयल ने कहा कि बिहार ने सदियों तक भारत का नेतृत्व किया। चाणक्य, आर्यभट्ट, महावीर स्वामी और बुद्ध की इस भूमि की संभावनाओं को देश- दुनिया में भुला दिया गया था, लेकिन आज स्थितियां बदल रही हैं। किसान रेल आज राज्य की फल और सब्जियों को देश के दूसरे कोनों में पहुंचा रही है। राज्य के बहुत से उत्पाद जिसमें शाही लीची, मखाना और सिल्क उत्पाद हैं देश- दुनिया के बाजारों में पहुंचने लगे हैं। क्षमताओं का अभी तक देश और दुनिया ने पहचाना नहीं है। गोयल ने कहा कि आज केंद्र और राज्य की सरकार डबल इंजन के रूप में मिलकर राज्य के विकास के लिए काम कर रही हैं।