एक तरफ भाजपा विधायक शिलादित्य देव ने एनआरसी संयोजक द्वारा वैध दस्तावेजों की सूची से शरणार्थी प्रमाण पत्र को खारिज करने के फैसले को सरकार की भूल बताया है तो दूसरी तरफ विगत 9 साल से शुद्ध एनआरसी की मांग में सुप्रीम कोर्ट का चक्कर लगा रहे गैर-सरकरी संगठन असम पब्लिक वर्क्स के प्रमुख अभिजीत शर्मा ने इसका स्वागत किया है।

शनिवार को भाजपा विधायक शिलादित्य देव ने राष्ट्रीय नागरिक पंजी अद्यतन प्रकिया के तहत वैध दस्तावेजों की सूची से शरणार्थी प्रमाण पत्र को खारिज किए जाने को सरकार किए जाने को सरकार की भूल करार देते हुए कहा कि अगर मुख्यमंत्री सर्वानंद के निर्देश पर एनआरसी के संयोजक प्रतीक हाजेला ने एेसा किया है तोे यह सरकार की गलती है।

वहीं, एक संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए असम पब्लिक वर्क्स के नेता अभिजीत शर्मा ने कहा कि अगर मुख्यमंत्री सोनोवाल के निर्देश पर हाजेला ने शरणार्थी प्रमाण पत्र को खारिज किया है तो इसके लिए मुख्यमंत्री बधाई के पात्र हैं तथा उन्होंने सच्चे असमिया की भूमिका निभाई है।

शर्मा ने कहा कि मुख्यमंत्री महोदय,अगर आपके निर्देश पर यह हुआ है तो आप सचमुच बधाई के पात्र हैं। आपने एक सच्चे और अच्छे असमिया का परिचय दिया है।