कालिम्पोंग : गोरखा जनमुक्ति मोर्चा के विनय तामांग व अनित थापा गुट ने बिना किसी का नाम लिए शहर में पोस्टर लगाकर हथियारों का प्रयोग करने वालों पर निशाना साधा है। ज्ञात हो कि शुक्रवार को ही कालिम्पोंग के पेदोंग क्षेत्र से भारी मात्रा में विस्फोटक बरामद हुए थे। 

हथियारों का प्रयोग करने वालों को पोस्टरों के माध्यम से सावधान रहने की चेतावनी दी गई है। साथ साथ ही मोर्चा के संस्थापक सदस्य प्रवीण रहपाल व कमल थापा के नेतृत्व में लगे पोस्टर के जरिए हिंसा और हथियार से भावी पीढ़ी के गलत दिशा में जाने का संकेत भी दिया गया है। 

गोरखालैंड की प्राप्ति के लिए हथियारों और बम के प्रयोग को अनुचित करार दिया गया है। पोस्टर के जरिए विमल गुरुंग गुट का नाम लिए बगैर हथियारों के प्रयोग करने वाले, उन्हे साथ रखकर चलने वालों का तीखा विरोध किया गया है। 

रहपाल के अनुसार गोरखालैंड के लिए अब गणतांत्रिक लड़ाई लड़ी जाएगी और दार्जिलिंग पर्वतीय क्षेत्र को कश्मीर नहीं बनने दिया जाएगा। वहीं सोशल मीडिया पर वायरल पहाड़ बंद पर प्रतिक्रिया देते हुए कमल थापा ने कहा कि अब पहाड़ बंद नहीं होगा और हिंसा की भेंट नहीं चढ़ेगा। 

ऐसी चर्चा मात्र अफवाह है। उन्होने बताया कि गोरखालैंड आंदोलन राज्य मुखी न होकर केंद्र सरकार पर दबाव बनाने के लिए होगा। कालिम्पोंग जिले से तामांग- थापा को मिले भारी जनसमर्थन के चलते दोनों नेताओं के दीपावली के बाद दोबारा जिले में आने की जानकारी भी दी।