अपहरण और 25,000 रुपये का इनाम वाला आरोपी गोंडा के एक पुलिस थाने में गले में तख्ती लटकाए पहुंचा और उस पर एक संदेश लिखा था- मैं आत्मसमर्पण कर रहा हूं, कृपया मुझ पर गोली मत चलाना।नाटकीय सरेंडर का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया है। पिछले हफ्ते योगी आदित्यनाथ सरकार के सत्ता में लौटने के बाद यह इस तरह का पहला आत्मसमर्पण है।

ये भी पढ़ेंः कश्मीरी पंडितों का असली कातिल था बिट्टा कराटे, द कश्मीर फाइल्स में ऐसे चला पता


अपराधी गौतम सिंह और दो अन्य साथियों पर चिकन चारा कारोबारी को अगवा करने और उसकी रिहाई के लिए 20 लाख रुपये की फिरौती मांगने का आरोप है। एसपी गोंडा, संतोष मिश्रा ने कहा कि 7 मार्च को अपहरण के बाद पुलिस ने आरोपी की तलाश शुरू की और दो आरोपियों जुबैर और राज कुमार यादव को गिरफ्तार कर लिया, लेकिन मुख्य आरोपी गौतम सिंह फरार था।

ये भी पढ़ेंः इस राज्य में 6 दिनों तक मनाया जाता है होली का उत्सव, पारंपरिक खाने-पीने का स्वाद होता है लाजवाब


मिश्रा ने कहा, हमने सिंह पर सुराग का पता लगाने के लिए 25,000 रुपये के इनाम की घोषणा की और जैसे ही जिले भर में पुलिस की छापेमारी शुरू हुई, वह अपने भाई अनिल के साथ छिप गया और बाद में छपिया थाने में आत्मसमर्पण कर दिया। गौतम समेत गिरोह के सदस्यों ने कारोबारी शील प्रकाश को उसकी दुकान से अगवा कर तीन घंटे तक कार में बंधक बनाकर रखा और उसकी रिहाई के लिए 20 लाख रुपये की फिरौती मांगी थी।