कोरोना महामारी में देश में कर्फ्यू और लॉकडाउन लागू था। कोरोना के संक्रमण से बचने के लिए सरकार के पास यही एक विकल्प था। इस समय के दौरान माल ढुलाई  ट्रेनों ने बहुत मदद की है। इस समय में रेलवे ने अपनी ट्रेनों के परिचालन के पूरी तरीके से नहीं होने के बावजूद भी कई शानदार रिकॉर्ड बनाये हैं। खासकर रेलवे ने वित्तीय वर्ष 2021-22 के मई माह में माल लदान मामले में पिछले रिकॉर्ड को तोड़कर नए रिकॉर्ड बना दिए है।


उत्तर पश्चिम रेलवे ने वित्तीय वर्ष 2021-22 में मई माह तक 4.29 मिलियन टन माल लोड करके इतिहास में अब तक की सर्वाधिक लोडिंग कर रिकॉर्ड दर्ज कर दिया है। बता दें कि उत्तर पश्चिम रेलवे पर सीमेंट, क्लिंकर, खाद्यान्न, पेट्रोलियम, कन्टेनर सहित अन्य प्रमुख कमोडिटी का परिवहन किया जाता है। इसी तरह से NWR के उप-महाप्रबन्धक/मुख्य जनसम्पर्क अधिकारी लेफ्टिनेंट शशि किरण के अनुसार चालू वित्त वर्ष 2021-22 में मई माह तक 4.29 मिलियन टन का प्रारंभिक लदान हासिल किया है।



बता दें कि उत्तर पश्चिम रेलवे पर वर्ष 2020-21 में अजमेर मंडल पर 5.92 मिलियन टन, बीकानेर मंडल पर 3.47 मिलियन टन, जयपुर मंडल पर 8.16 मिलियन टन व जोधपुर मण्डल पर 4.69 मिलियन टन माल लोंडिग की गई है। रेलवे ने वर्ष 2020-21 में 22.24 मिलियन टन माल लदान किया था जिसको इस वित्तीय वर्ष में रेलवे बोर्ड ने 26.50 मिलियन टन का लक्ष्य प्रदान किया है। इस रिकार्ड का श्रेय NWR महाप्रबन्धक आनन्द प्रकाश के कुशल निर्देशन और प्रमुख मुख्य परिचालन प्रबन्धक रवीन्द्र गोयल के मार्गदर्शन को दिया जा रहा है।