कोरोना पर काबू पाने के लिए देश में की तरह के सख्त कदम उठाए गए हैं। कई तरह की कड़ी पाबंदियों के बीच कोरोना से लड़ा जा रहा है। कोरोना बेकाबू होता जा रहा है। लोग अपने घरों में कोरोना से बचने के लिए दुबककर बैठे हैं। सरकार वीकेंड लॉकडाउन लागू कर चुकी है और साथ ही कोरोना कर्फ्यू  भी लागू किया है। इसमें बाजार औ सड़कों पर आवाजवाही बंद रहती है।


इसी बीच कोरोना कर्फ्यू में उत्तर प्रदेश सरकार ने हैरान कर देने वाला फैसला लिया है। सरकार ने फैसला लिया है कि अब कोरोना कर्फ्यू के बीच ही आगरा जनपद में शराब की दुकानें खुल दी जाएंगी। जिला आबकारी अधिकारी नीरेश पालिया द्वारा जारी दिशा-निर्देश के मुताबिक सभी देसी और अंग्रेजी शराब की दुकानें सुबह 10 बजे से शाम 7 बजे तक खुलेंगी। हालांकि मॉडल शॉप पर कैंटीन बंद रहेगी और बैठकर पीने की अनुमति नहीं होगी।



जिला आबकारी अभिकारी ने कोरोना प्रोटोकॉल को देखते हुए कुछ पाबंदियां भी लगाई है। निर्देश के मुताबिक शराब दुकानों पर कोविड प्रोटोकॉल का सख्ती से पालन और सैनिटाइजर रखना अनिवार्य है। आबकारी अधिकारी नीरेश पालिया ने बताया कि फिलहाल बार बंद रहेंगे। कैंटीन में बैठकर पीने अनुमति नहीं होगी। शराब खरीद सकते हैं। दूसरी ओर जिला लिकर एसोसिएशन की मांग है कि जीतने दिन दुकानें बंद रही हैं, उतने दिन सरकार को लाइसेंस की अवधी बढ़ानी चाहिए।


जिला लिकर एसोसिएशन के अध्यक्ष अतुल दुबे ने बताया कि “सरकार को भी अन्य राज्यों की तरह लाइसेंस की अवधि बढ़ानी चाहिए, क्योंकि लॉकडाउन की वजह से दुकानदारों को आर्थिक क्षति हुई है ”। उन्होंने कहा कि पिछले साल भी लॉकडाउन की वजह से तीन महीने तक दुकानें बंद रही थी। इस बार भी पिछले दस दिनों से दुकानें बंद हैं तो सरकार को उतने दिन लाइसेंस की अवधी को बढ़ा देना चाहिए।