देश के सबसे बड़े पब्लिक सेक्टर बैंक SBI ने अपने ग्राहकों को खुशखबरी दी है. अब इंटरनेट बैंकिंग और मोबाइल बैंकिंग के जरिए 5 लाख रुपये तक के किए गए इमीडिएट पेमेंट सर्विस (IMPS) ट्रांजेक्शन पर कोई सर्विस चार्ज नहीं लगेगा. भारतीय स्टेट बैंक (SBI) ने मंगलवार को कहा कि YONO ऐप के यूजर्स के लिए भी यह प्रावधान लागू है. यदि आप बैंक की शाखा में जाकर IMPS करवाएंगे तो आपको GST के साथ सर्विस चार्ज भी देना पड़ेगा. SBI ने बताया कि यह निर्देश 1 फरवरी 2022 से लागू होंगे.

बता दें कि कुछ महीने पहले तक IMPS ट्रांजेक्शन की अधिकतम सीमा 2 लाख रुपये थी, जिसे बढ़ाकर अब 5 लाख रुपये कर दिया गया है. SBI अभी तक सिर्फ 2 लाख रुपये तक के IMPS ट्रांजेक्शन पर ही सर्विस चार्ज नहीं लेता था.

SBI ने बताया कि ग्राहकों में डिजिटल बैंकिंग को बढ़ावा देने के लिए इंटरनेट बैंकिंग और मोबाइल बैंकिंग (YONO ऐप सहित) के जरिए IMPS ट्रांजेक्शन पर सर्विस चार्ज नहीं लागू करने का फैसला किया है. वहीं, बैंक की शाखाओं से होने वाले IMPS ट्रांजेक्शन के लिए 2 लाख से 5 लाख रुपये का एक नया स्लैब बनाया गया है. इस स्लैब के तहत आने वाली रकम पर सर्विस चार्ज 20 रुपये और इसके साथ ही GST भी लिया होगा.

बता दें कि बैंक की शाखाओं से अभी सिर्फ 1,000 रुपये तक के IMPS ट्रांजेक्शन ही सर्विस चार्ज से मुक्त हैं. 1,001 रुपये 10,000 रुपये तक के ट्रांजेक्शन पर 2 रुपये + GST लगता है. वहीं 10,001 रुपये 1 लाख रुपये तक के ट्रांजेक्शन पर 4 रुपये + GST लागू होता है. 1 लाख रुपये से 2 लाख रुपये तक पर सर्विस चार्ज 12 रुपये + GST है.