कोरोना महामारी की वजह से पिछले दो साल से नियमित अंतरराष्ट्रीय उड़ानें बाधित थीं। अब वह दिन आ गया है जब कि 6 भारतीय और 60 विदेशी एयरलान्स 40 देशों के बीच फिर से नियमित सेवाएं शुरू करने जा रही हैं। एक सप्ताह में लगभग 3249 उड़ानें संचालित की जाएंगी। हालांकि अभी भारत और चीन के बीच कोई भी उड़ान सेवा शुरू नहीं हो रही है। 

यह भी पढ़े : राशिफल 27 मार्च : राहु मेष राशि में , तुला राशि में केतु, मंगल, शनि और चंद्रमा मकर राशि में, जानिए क्या पड़ेगा प्रभाव 


कोरोना महामारी के दौरान बबल सिस्टम की वजह से अंतरराष्ट्रीय यात्रा के टिकट भी महंगे हो गए थे। अब उड़ानों की संख्या बढ़ने की वजह से यात्रियों को किराए में भी राहत मिल सकती है। इसके अलावा पर्यटन एक बार फिर रफ्तार पकड़ सकता है। जानकारों का कहना है कि टिकट के दाम कम होने के बावजूद प्री कोविड लेवल से ज्यादा रहेंगी। रूस और यूक्रेन के बीच युद्ध के चलते तेल की बढ़ी कीमतों को वजह से किराया ज्यादा कम होने की उम्मीद नहीं है। 

यह भी पढ़े : Fuel Price: पेट्रोल-डीजल के दामों को लगे पंख , 6 दिनों के अंदर आज 5वीं बार बढ़े Petrol-Diesel के दाम, जानिए नई कीमतें


इंडिगो सबसे ज्यादा 505 उड़ानें प्रति सप्ताह संचालित करेंगी। इसके बाद एयर इंडिया 361, एआई एक्सप्रेस 340 और Emirates 170 उड़ान प्रति सप्ताह संचालित करेंगी। टाटा ग्रुप की तीन एयरलाइन्स, एयर इंडिया, एआई एक्सप्रेस और विस्तारा कुल मिलाकर एक सप्ताह में 757 उड़ान भरेंगी। इंडिगो की इंस्तांबुल की फ्लाइट 1 मई से शुरू होगी। महामारी की वजह से चीन के लिए उड़ान सेवाएं अभी शुरू नहीं हुई हैं।

यह भी पढ़े : Papmochini Ekadashi : मोक्ष देने वाली पापमोचिनी एकादशी पर इस विधि से करें भगवान विष्णु की पूजा- अर्चना, सभी तरह के पापों से मिलेगी मुक्ति


टाटा की चौथी एयरलाइन एयरएशिया का कोई भी शेड्यूल डीजीसीए की लिस्ट में नहीं है। जानकारों का कहना है कि हो सकता है कि एआई एक्सप्रेस के साथ ही विलय करके टाटा आगे का संचालन करना चाहती हो। एयरलाइन्स ने गर्मियों के लिए इंडरनेशनल शेड्यूल के लिए अप्लाई किया था। इसका अप्रूवल मिल गया है। यह 27 मार्च से 29 अक्टूबर तक लागू रहेगा।