वैसे तो सोने-चांदी की कीमतों में तेजी कई महीनों से बरकरार है।  वह भी तब, जब लोग जेवर खरीदने में रुचि कम ले रहे हैं।  इसके बावजूद दोनों धातुओं की कीमत आसमान छू रही है।  इस महीने यानी अगस्त में केवल पांच कारोबारी दिन में चांदी की रफ्तार सोने के मुकाबले 5 गुना बढ़ी है। 

3 अगस्त से 7 अगस्त के बीच सोने का हाजिर भाव जहां 2303 रुपये बढ़ा है तो वहीं चांदी का 10243 रुपये।  तीन अगस्त को चांदी 64770 रुपये प्रति किलो की दर से बंद हुई थी और शुक्रवार 7 अगस्त को यह 75013 रुपये पर बंद हुई।  वहीं सोना 3 अगस्त को 53976 रुपये प्रति 10 ग्राम पर बंद हुआ था, लेकिन शुक्रवार को यह 56126 रुपये रहा।  

विशेषज्ञों की मानें तो कोरोना संकट के बीच जारी वैश्विक अनिश्चितता के चलते सोने में तेजी का दौर जारी रह सकता है।  सोने के दाम में तेजी पिछले एक दशक से जारी है।  सितंबर 2018 से सोना 60 फीसद तेज है।  इस साल 6 महीने में ही 24 प्रतिशत की तेजी आई है।  अगले 2 साल में सोने के भाव प्रति 10 ग्राम 20000 रुपये प्रति 10 ग्राम तक बढ़ सकते हैं।