दक्षिण एशियाई देश इंडोनेशिया में एक सोने का द्वीप (gold iceland) मिला है। यहां पर लोगों को सोने के जेवर, अंगूठियां, बौद्ध मूर्तियां और चीन के कीमती सिरेमिक बर्तन मिल रहे है। कई सालों पहले गायब हो चुका 'सोने का द्वीप' इंडोनेशिया के पालेमबैंग प्रांत की मूसी नदी में मिला है। अब इस नदी की तलहटी से सोने के आभूषण और कीमती वस्तुएं मिल रही हैं। इस द्वीप को लेकर लोक कथाएं हैं कि यहां पर इंसान खाने वाले सांप रहते हैं, ज्वालामुखी फटता रहता है, हिंदी भाषा में बात करने वाले तोते रहते हैं।
'सोने का द्वीप' (Island of Gold) नाम से प्रसिद्ध यह जगह इंडोनेशिया के प्राचीन इतिहास में श्रीविजया शहर (Srivijaya City) कहलाता था। उस जमाने में यह बेहद रईस शहर था। अब यह द्वीप मूसी नदी की तलहटी में मिला है। माना जाता है कि यहां पर मलाका की खाड़ी पर राज करने वाले राजाओं का साम्राज्य था। भारतीय चोल साम्राज्य (Chola Dynasty) से हुए युद्ध में यह शहर बिखर गया।

लेकिन अब गोताखोर इस नदी की तलहटी से सोने के आभूषण, मंदिर की घंटियां, यंत्र, सिक्के, सिरेमिक बर्तन और बौद्ध मूर्तियां निकाल रहे हैं। अब तक गोताखोरों को सोने की तलवार, सोने और माणिक से बनी अंगूठी, नक्काशीदार जार, वाइन परोसने वाला जग और मोर के आकार में बनी बांसूरी मिली है।