पूर्व मुख्यमंत्री तरूण गोगोई ने राज्य के वित्त मंत्री और नेडा के चेयरमैन हिमंत विश्व शर्मा पर तीखा कटाक्ष करते हुए कहा कि उनमें साहस की कमी है। इसीलिए भाजपा नेतृत्व के हाथों इस्तेमाल हो रहे हैं। हिमंत को लोकसभा चुनाव के लिए टिकट नहीं दिए जाने

के भाजपा नेतृत्व के कदम पर टिप्पणी करते हुए पूर्व मुख्यमंत्री ने न्यूज

पोर्टल से मुलाकात में यह टिप्पणी की।


उनकी पार्टी नेतृत्व की इच्छा के प्रति विनम्रता पर व्यंग्य करते हुए गोगोई ने कहा कि, हिमंत को भाजपा के आदेश का पालन करना होगा या जेल जाने का जेखिम उठाना होगा। गोगोई के मुताबिक हिमंत के पास कोई और विकल्प नहीं है। एेसी मजबूरी है कि भाजपा नेतृत्व के खिलाफ बगावत करने का साहस नहीं उठा सकते। पूर्व मुख्यमंत्री के शब्दों में वे एेसा कर भी नहीं सकते क्योंकि भाजपा में दोयम दर्जें के नेता हैं।


पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि राजनीति में कोई भी व्यक्ती केवल अपने सिद्धांतों और विचारधारा सेपहचाना जाता है। आरपी शर्मा एक उदाहरण हैं जो टिकट नहीं दिए जाने के फैसले के खिलाफ बगावत करने में सक्षम हैं। ऐसा इसलिए क्योंकि वे वास्तविक हैं। गोगोई ने शर्मा का मजाक उड़ाते हुए चुटकी ली। कहा कि अमित शाह तो भाजपा की सारी की सारी जिम्मेंदारी निभा रहे हैं, फिर भी उन्हें चुनाव लड़ने की अनुमति दी जा रही है। हिमंत के जिम्मे तो नेडा के अधीन महज 25 सीटों की ही जिम्मेदारी है। उन्हें वैसा करने की अनुमति क्यों नहीं है।