आम आदमी पार्टी के  राष्ट्रीय संयोजक और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल (Arvind Kejriwal) ने पणजी में एक प्रेस कांफ्रेस में ऐलान किया कि वे बुधवार को गोवा चुनाव के लिए पार्टी के मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार (AAP CM candidate) की घोषणा करेंगे। बता दें कि राज्य में 14 फरवरी को विधानसभा चुनाव (Goa assembly elections) होंगे और वोटों की गिनती 10 मार्च को होगी।

इससे पहले आम आदमी पार्टी (AAP) ने मंगलवार को भगवंत मान (Bhagwant Mann) को आगामी पंजाब चुनावों (punjab assembly elections) के लिए आप का सीएम चेहरा घोषित किया। केजरीवाल ने पंजाब के लोगों से 13 जनवरी को अपने पसंदीदा सीएम उम्मीदवार के नाम सुझाने के लिए कहा था। उन्होंने कहा कि पार्टी को मान (Bhagwant Mann) के पक्ष में बहुमत के साथ 21 लाख से अधिक प्रतिक्रियाएं मिली हैं। रविवार को गोवा में घर-घर जाकर प्रचार करने वाले दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल (delhi CM Arvind Kejriwal) ने कहा कि राज्य में एक नई राजनीतिक पार्टी को मौका देने के लिए लोग उत्साहित हैं और उन्हें आप से कुछ उम्मीदें हैं। उन्होंने कहा कि गोवावासियों को भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस, तृणमूल कांग्रेस (TMC) और महाराष्ट्रवादी गोमांतक पार्टी (एमजीपी) पर कोई भरोसा नहीं है। आप सुप्रीमो ने कहा, आप ही उम्मीद है और गोवा के ग्रामीण भी दिल्ली मॉडल से वाकिफ हैं।

इसके साथ ही आम आदमी पार्टी (AAP) ने राज्य के लिए अपने 13 सूत्री एजेंडे की भी घोषणा की, जिसमें 300 यूनिट तक मुफ्त बिजली, मुफ्त पानी की आपूर्ति, आप के सत्ता में आने के छह महीने के भीतर खनन गतिविधियों को फिर से शुरू करने, सभी के लिए रोजगार और बेरोजगारों को भत्ता देने का वादा किया गया है। उन्होंने (Arvind Kejriwal) कहा कि किसानों के सभी मुद्दों का समाधान किया जाएगा और भ्रष्टाचार को जड़ से खत्म किया जाएगा। इसके साथ ही राज्य में व्यापार और उद्योग के फलने-फूलने के लिए अनुकूल माहौल बनाया जाएगा। अरविंद केजरीवाल की पार्टी गोवा में लगातार मेहनत कर रही है। हालांकि साल 2017 के विधानसभा चुनाव में आप का वहां खाता भी नहीं खुला था, लेकिन इस बार पार्टी किंगमेकर बनने की पूरी तैयारी कर रही है। चुनाव आयोग के निर्देश के मुताबिक, गोवा में 14 फरवरी को वोट (Goa election) डाले जाएंगे, जबकि 10 मार्च को परिणामों की घोषणा होगी। गौरतलब है कि 40 सीटों वाली गोवा विधानसभा का कार्यकाल आगामी 15 मार्च को खत्म हो रहा है। उम्मीद लगाई जा रही है कि 15 मार्च तक राज्य में नई सरकार बन जाएगी। इस बार प्रदेश में कांग्रेस और बीजेपी के साथ-साथ ममता बनर्जी की तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) और आम आदमी पार्टी भी पूरे दमखम के साथ चुनावी मैदान में हैं। हालांकि पिछले 10 साल से बीजेपी ही गोवा की सत्ता में है, जिसके चलते इस बार उसे सत्ता विरोधी लहर का भी सामना करना पड़ रहा है।