अगर आप गो एयर से हवाई यात्रा कर रहे हैं तो कृपया दो बार सोच लीजिए। क्योंकि आप अपने साथ जो सामान ले जा रहे हैं वह आपके साथ गंतव्य स्थान तक पहुंचेगा कि नहीं, इसकी कोई गारंटी नहीं है। और तो और सामान गायब होने के बाद गो एयर के कर्मचारी गायब सामान को तलाशने में मदद की बजाय अपना पल्ला झाड़ लेते हैं जो कि और भी पीड़ादायक होता है।

गुरुवार को कोलकाता से गुवाहाटी आए तिनसुकिया के युवा उद्यमी संजय खेतान के साथ कुछ ऐसी ही घटना हो गई। उनको गो एयर से कोलकाता से गुवाहाटी की यात्रा काफी महंगी पड़ी।

जब गुवाहाटी पहुंचे तो उनका एक लगेज गायब था। काफी तलाश की तो नहीं मिलने पर थक हार कर आजरा थाना में प्राथमिकी दर्ज करानी पड़ी। 

लगेज में उनका काफी कीमती सामान था, जिसका ब्योरा उन्होंने प्राथमिकी में दिया है। खेतान ने बताया कि 29 जून की सुबह वे कोलकाता से गुवाहाटी के लिए रवाना हुए थे। गो एयर फ्लाइट संख्याः जी-8-532, पीएनआर संख्या- सीक्यूबीएफएमजे से गुवाहाटी यात्रा के समय कोलकाता एयरपोर्ट में अपने दो लगेज बोर्डिंग के समय दिए थे। जिसका कुरियर टैग संख्या 80879070956 था।

जब वे गुवाहाटी पहुंचे तो उनमें से एक लगेज नदारद पाया। इसके तुरंत बाद उन्होंने गो एयर के ग्राउंड स्टाफ से लगेज के बारे में पूछताछ की तो उनको निराशा ही हाथ लगी। घंटो तक खेतान अपने सामान के लिए इधर से उधर चक्कर काटते रहे।

लेकिन उन्हें अपना सामान नहीं मिला। बाद में ग्राउंड स्टाफ की ओर से उनको आश्वासन दिया गया कि अगले 24 घंटे के भीतर उनके लगेज के बारे में टेलिफोन पर जानकारी दी जाएगी।

खेतान ने बताया कि वे लगातार गो एयर से संपर्क साधते रहे पर लगेज नहीं मिला। शुक्रवार को व्यवसायी खेतान ने इस संबंध में आजरा थाने में एक प्राथमिकी दर्ज कराते हुए इसके लिए गो एयर के ग्राउंड स्टाफ को ही जिम्मेदार ठहराया है। 

उन्होंने बताया कि अगर भूल से कोई दूसरा यात्री उनका सामान ले जाता तो उसके बदले उस यात्री का सामान तो मिलना चाहिए थे। लेकिन उन्हें कोई ऐसा सामान नहीं मिला। इसका मतलब है कि सामान चोरी हुआ है तथा ग्राउंड स्टाफ किसी न किसी रूप में जुड़ा है।