जीएमसीएच के मुख्यद्वार पर ताला देखकर मरीजों को खासी परेशान का सामना करना पड़ा, राज्य के विभिन्न हिस्सों से आये मरीज अस्पताल के ओपीडी विभाग खुलने का इंतजार कर रहे थे लेकिन अस्पताल का गेट खोला गया। 

दरअसल आज महापुरुष श्रीमंत शंकरदेव तिथि होने के चलते जीएमसीएच का ओपीडी विभाग के प्रवेश गेट पर ताला लगा दिया गया था जिससे रोगियों को खासी परेशानियों का सामना करना पड़ा ।

रोगियों ने आरोप लगाया कि बिना पूर्व जानकारी के अस्पताल की ओर से ओपीडी पर ताला लगाना सरकार की कार्यप्रणाली पर सवाल खड़े करते हैं, वो भी पूर्वोत्तर के सबसे बड़े सरकारी विभाग के ओपीडी विभाग गेट पर, अस्पताल जरूरीकालीन सेवा के अंतर्गत आता है. ऐसे में किसी भी महापुरुष के नाम अस्पताल बंद रखने की अनुमति किसने दी ये समझ से परे है। 

इस पूरे घटनाक्रम में राज्य का स्वस्थ्य विभाग क्या कदम उठाता है ये देखने वाली बात है, वहीँ इस पुरे मुद्दे पर  अभी तक जीएमसीएच की ओर  से कोई प्रतिक्रिया नहीं आयी हैं ।