पश्चिम बंगाल में दार्जिलिंग के पटलेबास में एक पुलिस उप निरीक्षक (एसआई) की गोली मार कर हत्या के मामले में गोरखा जनमुक्ति मोर्चा (जीजेएम) के प्रमुख बिमल गुरुंग और उसके 19 अन्य साथियों के खिलाफ अन्य मामलों के अलावा देशद्रोह के आरोप में भी प्रकरण दर्ज किया गया है।


पुलिस महानिदेशक सुरजीत कार पुरकायस्थ ने सोमवार को दार्जिलिंग शहर के चावक बाजार के उन क्षेत्रों का दौरा किया, जहां करीब दो महीने पहले संदिग्ध गोरखालैंड कार्यकर्ताओं ने शक्तिशाली विस्फोट किया था। पुरकायस्थ के इस दौरे के बाद जीजेएम प्रमुख के खिलाफ नये मामले दार्जिलिंग सदर पुलिस थाने में दर्ज किए गए हैं। उन्होंने कहा कि लोगों की मदद से दार्जिलिंग में हालात सामान्य हो रहे हैं और पर्यटक फिर से यहां का रुख करने लगे हैं।


बता दें कि दार्जिलिंग पुलिस ने गत 12 अक्टूबर को सब इंस्पेक्टर अमिताभ मलिक की हत्या को लेकर गोरखा जनमुक्ति मोर्चा (गोजमुमो) सुप्रीमो बिमल गुरुंग समेत कई अन्य लोगों के खिलाफ हत्याए हथियार रखने और विस्फोटक कानून के तहत भी मामला दर्ज किया है।

पुलिस की ओर से दर्ज प्राथमिकी में गोजमुमो सुप्रीमो गुरुंग के अलावा दीपक गुरुंग समेत बिमल के करीबी कई अन्य लोगों के नाम शामिल हैं। माना जा रहा है कि पुलिस अभियान के दौरान आरोपी दार्जिलिंग के पातलेबास में ही थे। उक्त स्थान से पुलिस ने एके-47 और भारी मात्रा में विस्फोटक जब्त किए गए।


बता दें कि दार्जिलिंग गोरखा जनमुक्ति मोर्चा प्रमुख विमल गुरुंग की तलाश में शुक्रवार सुबह दार्जिलिंग के लिम्बुबस्ती में छापामारी करने गई पुलिस कर्मियों पर मोर्चा समर्थकों के हमले में एक एसआई की मौत हो गई थी, जबकि तीन पुलिसकर्मी गंभीर रूप से घायल हो गए।