पूर्वी दिल्ली स्थित गाजीपुर लैंडफिल साइट पर सोमवार को लगी अचानक आग तीसरे दिन भी नहीं बुझ पाई है और दमकल गाड़ियां मौके पहुंच आग पर काबू पाने में जुटी हुई हैं। इसी बीच स्थानीय निवासियों के मुताबिक कूड़े के ढेर से निकल रहे धुएं के कारण उन्हें घर छोड़ अपने रिश्तेदारों के यहां जाना पड़ रहा है। दरअसल आग लगने के कारण लोगों के धुएं से सांस लेने में बहुत समस्या हो रही है। बुजुर्ग और बच्चों को घर के अंदर भी रहने में परेशानी हो रही है। जिस कारण कई लोग अपने अन्य रिश्तेदारों के यहां निकल गए हैं और धीरे- धीरे वापस आ रहे हैं।

ये भी पढ़ेंः उत्तर प्रदेश बोर्ड के इंटरमीडिएट का पेपर लीक, 24 जिलों में परीक्षा रद्द, बाकी 51 जनपदों में समय से पेपर शुरू


स्थानीय निवासी रुखसाना ने बताया कि आग लगने के कारण हालत बेहद खराब हो चुकी है, घरों के अंदर धुआं जा रहा है। धुएं के कारण गला खराब हो गया, मास्क लगाकर रहना पड़ रहा है। शाम को जब मुझे किसी अन्य घर जाना हुआ तो मुझे ऑक्सीजन तक लेनी पड़ी। हमारे जानकार और हम खुद अपने रिश्तेदारों के यहां जाने को मजबूर हुए, आग शुरूआत में कंट्रोल हो सकती थी लेकिन कई देर तक आग न बुझाए जाने के कारण पूरे कूड़े के ढेर ने आग पकड़ ली। एक अन्य निवासी बिलकिश ने बताया कि, किसी अन्य रिश्तेदारों के यहां नहीं जाएंगे तो क्या यहां रहकर मरेंगे? मरने की स्थिति बन चुकी है। आग लगने के बाद इतना हाल खराब हुआ कि मेरे बेटे की आंखों से पानी निकलने लगा था। वहीं मेरे खुद आवाज तक नहीं निकल रही थी।

ये भी पढ़ेंः एक झटके में 10 हजार 300 स्कूलों को ध्वस्त करने जा रही है इस राज्य की सरकार, जानिए क्यों


दरअसल लैंडफिल साइट की दूसरी ओर मुल्ला कालोनी, राजवीर कालोनी, घड़ोली विस्तार व कोड़ली कालोनी बसी हुई है। मुल्ला कॉलोनी में ही करीब एक लाख की आबादी रहती है। हर साल यहां के लोगों को इस कूड़े की ढेर से समस्याएं उठानी पड़ती है। यहां के बुजुर्गों में हर साल बीमारी बनी रहती है और किडनी, सांस की बीमारी से सबसे अधिक लोग ग्रहसित हैं। मुल्ला कालोनी आरडब्ल्यूए की एक पदाधिकारी और आम आदमी पार्टी से जुड़ी मुन्नी खातून ने बताया कि, कूड़े के ढेर से निकल रहे धुएं के कारण हम अपने रिश्तेदारों के यहां निकल गए थे और आज देर रात ही हम वापस लौटे हैं। इसके अलावा जिन लोगों को सांस की बीमारी है वह लोग भी आज ही वापस आए हैं और कुछ लौट रहे हैं। हालांकि गाजीपुर लैंडफिल साइट पर लगी आग पर सियासत हो रह है। भाजपा और आम आदमी पार्टी लगातार इस मसले पर आरोप प्रत्यारोप लगा रही है। वहीं दिल्ली सरकार ने आग लगने के जांच के आदेश भी दिए हुए हैं और पर्यावरण मंत्री आज प्रेस वार्ता भी करेंगे।