भारत बायोटेक, आईसीएमआर और एनआईवी के आपसी सहयोग से निर्मित कोरोना रोधी टीका कोवैक्सीन के बूस्टर डोज का भी ट्रायल शुरू होने जा रहा है।  मिली जानकारी के अनुसार कोवैक्सीन के तीसरे डोज का क्लीनिकल ट्रायल शुरू होगा। 

इस ट्रायल के दौरान दूसरे चरण के ट्रायल में शामिल हुए कुछ वॉलंटियर्स को बूस्टर डोज मिलेगी।  81 प्रतिशत एफीकेसी वाली कोवैक्सीन का बूस्टर डोज लेने वालों में यह देखा जाएगा कि कोरोना संक्रमण से बचने में यह कितनी इम्यूनिटी बढ़ा सकता है। 

 

कोवैक्सीन के तीसरे चरण के ट्रायल के नतीजे मार्च में सामने आए थे।  तीसरे चरण के ट्रायल के नतीजों में वैक्सीन 81 प्रतिशत तक प्रभावी पाई गई।  भारत बायोटेक ने देश के 25,800 लोगों पर ये ट्रायल किए गए थे।  जो कि आईसीएमआर की भागीदारी में अब तक के सबसे बड़े ट्रायल्स थे।  कोवैक्सीन के ट्रायल के मुताबिक ऐसे लोग जो कोविड-19 से संक्रमित नहीं हुए थे, उनमें ये वैक्सीन 81 प्रतिशत तक प्रभावी पाई गई। 

वहीं कोविड-19 से बचाव के लिए देश में दिए गए टीके की खुराक की संख्या रविवार को बढ़कर 19.60 करोड़ के पार हो गई। मंत्रालय ने कहा कि कुल 19,60,051,962 खुराक दी गई हैं।  स्वास्थ्य मंत्रालय के बयान के मुताबिक इनमें से 97,52,900 स्वास्थ्यकर्मी ऐसे हैं, जिन्हें टीके की पहली खुराक दी गई है, जबकि 67,00,614 स्वास्थ्यकर्मी ऐसे हैं जिन्हें दूसरी खुराक दी जा चुकी है।