त्रिपुरा मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी (माकपा) ने पार्टी प्रवक्ता गौतम दास को अगले तीन वर्ष के लिए सचिव चुना है। वह अनुभवी वाम नेता एवं निवर्तमान सचिव बिजान धर की जगह लेंगे। पार्टी सूत्रों के अनुसार रविवार रात पार्टी के 22वें राज्य सम्मेलन के अंत में यह निर्णय लिया गया।


सम्मेलन में 17 राज्यों के 10 सदस्यों ने श्री दास को सचिव के रूप में वोट दिया जबकि माकपा के सांसद एवं त्रिपुरा के आदिवासी नेता जितेंद्र चौधरी इस पद के लिए केवल सात वोट प्राप्त कर सके।


त्रिपुरा माकपा के दो गुटों में आंतरिक विवाद कई सालों से चला आ रहा है। गत विधानसभा चुनाव में पार्टी की हार के बाद युवा कार्यकर्ता खासकर जितेन्द्र चौधरी जैसे ऊर्जावान नेता को पसंद करते हैं जबकि पूर्व मुख्यमंत्री माणिक सरकार के नेतृत्व वाला गुट गौतम दास का समर्थन करता है।


सरकार और जितेन्द्र चौधरी के बीच मतभेद उस समय उजागर हुआ जब श्री चौधरी को वाम दल मंत्रिमंडल की ओर से लोकसभा भेजा गया। श्री चौधरी पार्टी की परंपरागत ²ष्टिकोण के खिलाफ बोलते रहे और पार्टी एवं मंत्रिमंडल में हमेशा लोकतंत्र कायम करने की मांग की। गत विधानसभा चुनाव में पार्टी की हार के बाद जितेन्द्र चौधरी न केवल पार्टी में युवा पीढ़ी बल्कि अन्य के बीच भी लोकप्रिय हो गये। पार्टी के निवर्तमान सचिव श्री धर ने पार्टी नेतृत्व में मतभेद होने से इन्कार किया और कहा कि श्री दास लोकतांत्रिक प्रक्रिया से चुन कर आये हैं।