पंजाब के सीएम भगवंत मान का स्पेशल प्रिंसिपल सेक्रेटरी गौरव यादव को नियुक्त किया गया है। वह पंजाब पुलिस के एडीजीपी के तौर पर भी काम करते रहेंगे। उनके पास पहले से ही यह जिम्मेदारी थी। अरविंद केजरीवाल और गौरव यादव के बीच पुराना नाता रहा है। दोनों ने एक साथ ही 1992 में सिविल सर्विसेज की परीक्षा पास की थी। गौरव यादव ने आईपीएस की परीक्षा पास की थी, जबकि अरविंद केजरीवाल इंडियन रेवेन्यू सर्विस के लिए चुने गए थे। गौरव यादव लंबे समय से पंजाब पुलिस में काम करते रहे हैं। मोस्ट वॉन्टेड आतंकी जगतार सिंह तारा को पकड़ने के लिए 2014 में चले अभियान का नेतृत्व गौरव यादव ने ही किया था। 

यह भी पढ़े : गोरखनाथ मंदिर हमला: सिरफिरा या सनकी नहीं शातिर किस्म का है आरोपी अहमद मुर्तजा अब्बासी, सामने आया शातिराना अंदाज


बीते कुछ सालों में यह दूसरा मौका है, जब पंजाब में किसी पुलिस अधिकारी को इस तरह की नियुक्ति दी गई है। इससे पहले 2017 में एडीजीपी हरप्रीत सिंह सिद्धू को भी ऐसी ही जिम्मेदारी मिली थी। उन्हें तत्कालीन सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह का स्पेशल प्रिंसिपल सेक्रेटरी बनाया गया था। वह ड्रग्स के खिलाफ ऐक्शन को बनी स्पेशल टास्क फोर्स के मुखिया था। गौरव यादव का का पंजाब से पुराना नाता है। वह सूबे के पूर्व डीजीपी पीसी डोगरा के दामाद हैं और राज्य में कई अहम पदों पर रह चुके हैं। वह 2016 में अकाली-भाजपा गठबंधन सरकार के दौर में इंटेलिजेंस विंग के मुखिया थे।

यह भी पढ़े : Navratri 4th Day 2022: आज का दिन मां दुर्गा के चतुर्थ स्वरूप देवी कूष्मांडा को समर्पित, जानें मां कूष्मांडा के पूजन का मुहूर्त 


इसके अलावा पंजाब में 10 सालों तक एसएसपी के तौर पर अपनी सेवाएं दे चुके हैं। यही नहीं 2002 से 2004 के दौरान वह चंडीगढ़ में भी एसएसपी के तौर पर काम कर चुके हैं। गौरव यादव को स्पेशल प्रिंसिपल सेक्रेटरी बनाए जाने को पंजाब सरकार में आम आदमी पार्टी के हाईकमान के दखल के तौर पर भी देखा जा रहा है। माना जा रहा है कि यह फैसला दिल्ली से लिया गया है। हालांकि इसे लेकर अब तक किसी ने कुछ नहीं कहा है। गौरतलब है कि पंजाब में आप के प्रभारी भी अरविंद केजरीवाल के करीबी नेता राघव चड्ढा हैं, जिन्हें अब पंजाब से ही राज्यसभा भेजा गया है।