ललितपुर. ललितपुर में न्याय मांगने के लिए गई एक नाबालिग लड़की के साथ थानाध्यक्ष द्वारा दुष्कर्म किए जाने का आरोप सामने आया है. घटना के बाद से आरोपी थानाध्यक्ष अपने ही थाने से फरार हो गया है. पुलिस अधीक्षक के निर्देश के बाद थानाध्यक्ष समेत छह लोगों के खिलाफ गैंगरेप का मुकदमा दर्ज किया गया है. इसके साथ ही थानाध्यक्ष को निलंबित कर दिया गया है. आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए टीमें गठित कर दी गई है.

यह भी पढ़े : इस ट्रेन में आप बिना किराया दिए कर सकते हैं सफर, लड़की के बने हुए है कोच


ललितपुर के पाली थाना क्षेत्र में एक नाबालिग किशोरी के साथ सामूहिक दुष्कर्म मामले में थानाध्यक्ष और चार अन्य आरोपियों के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज की गई है। एसपी ने थानाध्यक्ष को निलंबित कर दिया है। एफआईआर के बाद एसओ फरार हो गया। आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए पुलिस दबिश दे रही है। इस मामले में षड्यंत्र की धारा में एक महिला के खिलाफ भी रिपोर्ट दर्ज की गई।

बताया गया है कि थाना पाली अंतर्गत कस्बे की ही निवासी एक लड़की का 22 अप्रैल को चार युवकों ने अपहरण कर उसके साथ दुष्कर्म की घटना को अंजाम दिया था. आरोपियों के चंगुल से छूटकर जब पीड़िता थाने में न्याय की गुहार लगाने पहुंची तो उसको न्याय देने की जगह उत्पीड़न का शिकार होना पड़ा. आरोप है कि वहां मौजूद थानाध्यक्ष तिलकधारी सरोज ने भी उसके साथ दुष्कर्म किया.

यह भी पढ़े : MNS प्रमुख राज ठाकरे ने कहा - लाउडस्पीकर हटने तक जारी रहेगा आंदोलन, ऐसे ही चलती रहेगी हनुमान चालीसा


किशोरी ने पुलिस अधीक्षक को दी तहरीर में बताया कि 22 अप्रैल को चंदन, राजभान, हरिशंकर, महेंद्र चौरसिया उसे बहला-फुसलाकर भोपाल ले गए। वहां उसे तीन दिन तक स्टेशन के पास गलियों में छिपाकर रखा गया। चारों उससे लगातार दुष्कर्म करते रहे। 26 अप्रैल को चारों आरोपी उसको पाली थाने में दरोगा के पास छोड़कर भाग गए। दरोगा ने पीड़िता को मौसी को सौंप दिया। मौसी ने उसे दूसरे गांव में भेज दिया। 27 अप्रैल को फिर से उसे थाने बुलाया गया और बयान दर्ज किया गया। शाम को मौसी उसे फिर थानाध्यक्ष के पास छोड़ गई।

यह भी पढ़े : सलमान खान की ईद पार्टी में पहुंची कंगना रनौत, लोगों ने कर दिया ट्रोल , कह दी इतनी बड़ी बात 


इस घटना के बाद पीड़िता पुलिस अधीक्षक के पास पहुंची और उन्हें अपनी आपबीती सुनाई. पुलिस अधीक्षक के निर्देश के बाद आरोपी थानाध्यक्ष को निलंबित कर दिया गया है. इसके साथ ही थानाध्यक्ष तिलकधारी सरोज समेत 6 लोगों के खिलाफ संगीन धाराओं में केस दर्ज कर जांच शुरू कर दी गई है. घटना के बाद से आरोपी थानाध्यक्ष फरार हो गया है.

आरोप है कि थानाध्यक्ष तिलकधारी सरोज ने कमरे में ले जाकर उसके साथ दुष्कर्म किया। इसके बाद उसे मौसी के पास भेज दिया गया। इसकी सूचना  माता-पिता को नहीं दी गई। पीड़िता को 30 अप्रैल को फिर थाने बुलाकर चाइल्ड लाइन के सुपुर्द कर दिया गया। चाइल्ड लाइन में किशोरी ने पूरी आपबीती बताई। एसपी के आदेश पर पुलिस ने थानाध्यक्ष पर दुष्कर्म और भोपाल ले जाकर सामूहिक दुष्कर्म के मामले में चार आरोपियों के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज की। 

एक किशोरी शिकायत लेकर आई थी। उसने थानाध्यक्ष और चार लड़कों द्वारा दुष्कर्म की बात कही है। एक आरोपी को हिरासत में लेकर पूछताछ की जा रही है। बाकी आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए पुलिस टीम गठित की गई हैं। थाना इंचार्ज को तत्काल निलंबित कर दिया गया है। -निखिल पाठक, पुलिस अधीक्षक