पश्चिम बंगाल का विधानसभा चुनाव पर पूरे देश की नजरे बनी हुई है। देश में 5 राज्यों में विधानसभा चुनाव होने है। असम और बंगाल के चुनाव पर ही सबकी नजर हैं। बंगाल में सत्तारूढ़ भाजपा जी  तोड़ मेहनत करने में लगी हुई है। मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को बंगाल से मुक्ति दिलाने के लक्ष्य से बीजेपी कई तरह की रणनीतिया बना रहा है। बता दें कि बंगाल में  पहले चरण की 30 विधानसभा सीटों पर चुनाव प्रचार थम गया है।

पहले चरण का चुनाव 27 मार्च को मतदान होगा। पहले चरण की 30 सीटें आदिवासी बहुल पुरुलिया, बांकुरा, झारग्राम, पूर्वी मेदिनीपुर और पूर्वी मेदिनीपुर 2 जिलों मे होंगे। भाजपा नेताओं ने पुरुलिया, झारग्राम और बांकुड़ा जिलों में रैलियों ‘सोनार बांग्ला’ बनाने का वादा किया है। ममता बनर्जी पर को बंगाल से निकालने के बीजेपी बड़ा लक्ष्य है। बंगाल में  पीएम नरेंद्र मोदी और गृहमंत्री अमित शाह ने कई रैलियों को संबोधित किया है।


इसी कड़ी में कांग्रेस की तरफ नजर डालते हैं तो कांग्रेस बंगाल में ज्यादा एक्टिव नहीं है। इन्होंने बंगाल में कोई रैली को भी संबोधित नहीं किया है। कांग्रेस के सबसे बड़े स्टार प्रचारक राहुल गांधी, प्रियंका गांधी और सोनिया गांधी गायब रहे। कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष अधीर रंजन चौधरी ने चुनाव प्रचार की कमान संभाल रखी है। कांग्रेस के लिए इधर कुआं और उधर खाई जैसे हालात हैं. कांग्रेस पश्चिम बंगाल में लेफ्ट के साथ गठबंधन में चुनाव लड़ रही है।