आरा-पटना बहुचर्चित सेक्स कांड में फरार चल रहे संदेश के राजद विधायक अरुण यादव की मुश्किलें लगातार बढ़ती जा रही हैं। भोजपुर के लसाढ़ी स्थित पैतृक घर की कुर्की की कार्रवाई के बाद भी फरार चलने के मामले में उन पर नयी प्राथमिकी दर्ज करायी गयी है। टाउन थाने में दर्ज प्राथमिकी में विधायक पर कोर्ट के आदेश की अवहेलना करने का आरोप लगाया गया है। कहा गया है कि कोर्ट से निर्गत गिरफ्तारी वारंट, इश्तेहार व कुर्की के आदेश के बावजूद विधायक फरार चल रहे हैं।


सेक्स कांड के आईओ ने कोर्ट को इसकी जानकारी दी। आईओ ने कोर्ट के शोकॉज का जवाब देने के क्रम में इसका उल्लेख किया है। पॉक्सो मामले की स्पेशल पीपी सरोज कुमारी ने इसकी पुष्टि की है। उन्होंने बताया कि विशेष पॉक्सो कोर्ट सह फर्स्ट एडीजे सह आरके सिंह ने गत दिनों केस के रोजाना के अपडेट प्रतिवेदन नहीं देने पर आईओ से शोकॉज किया था। उसमें पुलिस के अनुसंधान पर भी सवाल उठाये थे। पंद्रह दिनों के भीतर जवाब देने का आदेश दिया था। आईओ की ओर से जवाब दाखिल किया गया है। जवाब में इस कार्रवाई की जानकारी दी है।

आईओ की ओर से दाखिल जवाब के अनुसार राजद विधायक के चार बैंक खातों पर रोक लगाने के लिए संबंधित बैंक के प्रबंधकों को प्रतिवेदन दे दिया गया है। इनमें पंजाब नेशनल बैंक की वरुणा शाखा के दो, पिअनियां शाखा की एक और दक्षिण बिहार ग्रामीण बैंक की अगिआंव शाखा का एक खाता शामिल है। विधायक के खिलाफ केस दर्ज होने और फरार चलने के बारे में विधानसभा अध्यक्ष व सचिव को जानकारी देने के लिए भी पूर्व में ही एसपी को प्रतिवेदन दिया गया है।


 
बीते जुलाई माह में सेक्स कांड का खुलासा होने के बाद चार लोगों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज करायी गयी थी। इस मामले में संदेश के राजद विधायक अरुण यादव, लखनऊ के रिंकू, पटना के एक होटल के मैनजर और एक शराब कारोबारी का भी नाम आया। ये चारों फरार चल रहे हैं। इनमें विधायक के खिलाफ कुर्की की कार्रवाई भी की जा चुकी है।