नई दिल्‍ली। पैगंबर मोहम्मद के विवादित कार्टून मामले में फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुअल मेक्रों पर निशाना साधने वाले पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान खान को तगड़ा झटका लगा है। यह झटका फ्रांस ने दिया है। 

दरअसल, फ्रांस ने तय किया है कि वह पाकिस्तान के मिराज फाइटर जेट्स, एयर डिफेंस सिस्टम, अगोस्टा 90बी क्लास सबमरींस को अपग्रेड नहीं करेगा इसके अलावा, फ्रांस ने कतर, जोकि राफेल फाइटर जेट्स का खरीदार है, से कहा है कि विमान के लिए किसी भी पाकिस्तानी टेक्नीशियन को काम न करने दे। 

फ्रांस की आशंका है कि कहीं पाकिस्तानी टेक्नीशियन चोरी-छिपे फाइटर जेट्स की अहम जानकारियों को इस्लामाबाद को न बता दें। पाकिस्तान पहले भी अपनी इन हरकतों के लिए जाना जाता रहा है और चीन के साथ डिफेंस डाटा को शेयर करता रहा है।

फ्रांस पहले से ही पाकिस्तानी नागरिकों को शरण देने के लिए उनकी कठोर तरीके से जांच कर रहा है। हाल ही में विवादास्पद चालीं हेब्दो मैगजीन के पुराने पेरिस दफ्तर के बाहर चाकू मारने की घटना सामने आई थी। सितंबर महीने में, पाकिस्तान के 18 वर्षीय अली हसन ने मैगजीन के दफ्तर के बाहर दो लोगों की चाकू मार दिया था। बाद में, उसके पिता ने एक लोकल न्यूज चैनल से कहा था कि उनके बेटे ने काफी अच्छा काम किया है और वे इस हमले से काफी खुश हैं।

भारतीय विदेश सचिव हर्षवर्धन श्रृंगला को फ्रांसीसी सरकार के फैसलों के बारे में तब बताया गया था, जब उन्होंने 29 अक्टूबर को पेरिस का दौरा किया था। इसके पहले, फ्रांस में आतंकी हमले को लेकर नई दिल्‍ली ने फ्रांस के साथ खड़े होकर निंदा की थी।