रूस और यूक्रेन के बीच चल रही जंग के बीच भारत के भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान कानपुर (आईआई-के) के शोधकर्ताओं ने भविष्यवाणी की है कि देश में 22 जून के आसपास कोविड-19 की चौथी लहर लौट सकती है। अध्ययन के अनुसार, भारत में जून के मध्य में चौथी कोविड लहर देखने की संभावना है और वृद्धि लगभग चार महीने तक जारी रहने की संभावना है।

ये भी पढ़ेंः Russia-Ukraine War : 17 साल की भारतीय नागरिक नेहा ने पेश की मानवता की मिसाल, जानें क्यों कहा यूक्रेन नहीं छोड़ूंगी


अध्ययन में कहा गया है कि हालांकि, लहर की गंभीरता नए रूपों के उद्भव, टीकाकरण की स्थिति और बूस्टर खुराक के प्रशासन पर निर्भर करेगी। अनुसंधान का नेतृत्व आईआईटी कानपुर के गणित विभाग के शलभ, सबरा प्रसाद राजेशभाई और सुभ्रा शंकर धार ने किया था, जिसमें जिम्बाब्वे के आंकड़ों के आधार पर गाऊसी वितरण के मिश्रण का उपयोग किया गया था। यह आईआईटी-के अध्ययन मेडआरजिव में प्री-प्रिंट के रूप में प्रकाशित किया गया है और इसकी सहकर्मी-समीक्षा की जानी बाकी है।

ये भी पढ़ेंः तो क्या यूक्रेन को तबाह करने के लिए परमाणु हमला करने जा रहा है रूस, इस देश ने दे दी है अनुमति


शोधकर्ताओं के अनुसार, डेटा इंगित करता है कि भारत में कोविड की चौथी लहर 30 जनवरी 2020 की प्रारंभिक डेटा उपलब्धता तिथि से 936 दिनों के बाद आएगी। अध्ययन में कहा गया है, ‘‘इसलिए, चौथी लहर 22 जून, 2022 से शुरू हो सकती है, जो 23 अगस्त, 2022 को अपने चरम पर पहुंच सकती है और इसके 24 अक्टूबर, 2022 को समाप्त होने का अनुमान है।