पुणे। उत्तर प्रदेश हॉकी, हॉकी कर्नाटक, हॉकी महाराष्ट्र और हॉकी पंजाब सोमवार को यहां हॉकी इंडिया सीनियर राष्ट्रीय चैम्पियनशिप के फाइनल में जगह बनाने के लिए भिड़ेंगी। पहले सेमीफाइनल में उत्तर प्रदेश हॉकी का मुकाबला हॉकी कर्नाटक से होगा। दोनों टीमें टूर्नामेंट में शानदार प्रदर्शन कर रही हैं। उत्तर प्रदेश हॉकी ने शनिवार को क्वार्टर फाइनल में हॉकी हरियाणा को 2-1 से हराया था।

अपने सेमीफाइनल मैच के बारे में बोलते हुए उत्तर प्रदेश हॉकी कोच परमजीत सिंह ने कहा, 'टीम अच्छी लय में है और हम इसे बनाए रखने पर ध्यान दे रहे हैं। यह एक चुनौतीपूर्ण सेमीफाइनल होगा और उम्मीद है कि हम फाइनल के लिए क्वालीफाई करने के लिए अच्छा प्रदर्शन करेंगे।'

उनके प्रतिद्वंद्वी हॉकी कर्नाटक, जो वर्तमान में टूर्नामेंट (35 गोल) में दूसरी सबसे ज्यादा गोल करने वाली टीम है। वह अपने शानदार फॉर्म को भुनाने की कोशिश करेगी। हॉकी कर्नाटक के कोच प्रदीप कुमार आरपी ने कहा कि उनकी टीम एक कड़े मैच की उम्मीद कर रही है और वे मानसिक और शारीरिक रूप से इसके लिए तैयार हैं।

उन्होंने आगे कहा, 'सबसे पहले, सीनियर नेशनल एक आसान टूर्नामेंट नहीं है। हर टीम में बेहतर खिलाड़ी हैं और निश्चित रूप से, उत्तर प्रदेश हॉकी एक मजबूत टीम है। हम एक कड़े मैच की उम्मीद कर रहे हैं, जो कोई भी गलती करेगा वह हार जाएगा। मुझे लगता है कि सोमवार को होने वाले सेमीफाइनल के लिए हम तैयार हैं।'

दूसरे सेमीफाइनल में हॉकी महाराष्ट्र का सामना हॉकी पंजाब से होगा। हॉकी महाराष्ट्र के कोच एडगर जोसेफ मस्कारेनहास ने कहा, 'मैं हमेशा अपने खिलाडिय़ों को अंतिम सीटी तक खेलने के लिए कहता हूं और खुद पर विश्वास रखता हूं। हमारे गोलकीपर आकाश चिकटे वास्तव में अच्छा कर रहे हैं।'

उन्होंने कहा, 'हम हॉकी पंजाब का मुकाबला करने के लिए तैयार हैं। हम उनकी खेल शैली को जानते हैं और हम वह हॉकी खेलेंगे जो हमने खेलने की योजना बनाई है। यह एक कठिन मैच होगा। इसमें कोई संदेह नहीं है, लेकिन हम खेलने के लिए तैयार हैं।'

हॉकी पंजाब के कोच बलविंदर सिंह ने कहा, 'यह एक युवा टीम है, जिसमे लगभग 10 खिलाड़ी पहली बार अपने राष्ट्रीय टूर्नामेंट में खेल रहे हैं। मैं अब तक के प्रदर्शन से खुश हूं। हमें ओलंपिक कांस्य पदक विजेता रूपिंदर पाल सिंह का फायदा है। वह मार्गदर्शन करते रहे हैं। ये युवा खिलाड़ी वास्तव में बहुत अच्छे हैं। हॉकी महाराष्ट्र के खिलाफ मैच 50-50 का होगा।'