नागालैंड के पूर्व विधायक डा. के सी निहोशे का लंबी बीमारी के बाद मंगलवार को दीमापुर के क्रिश्चियन इंस्टीट्यूट ऑफ हेल्थ साइंसेज एंड रिसर्च (सीआईएचएसआर) में निधन हो गया। डा. निहोशे 2008 में राज्य की जुन्हेबोटो विधानसभा क्षेत्र से निर्दलीय उम्मीदवार के रूप में चुने गए और उन्होंने संसदीय, उद्योग और वाणिज्य सचिव के रूप में कार्य किया। 

नागालैंड के राज्यपाल आर. एन. रवि ने डॉ. निहोशे के निधन पर शोक व्यक्त किया है। राज्यपाल ने कहा, राज्य ने एक सच्चे और बड़े नेता को खो दिया है। मैं नागालैंड के लोगों और अपनी ओर से संवेदना व्यक्त करता हूं। मैं ईश्वर से प्रार्थना करता हूं कि उनके परिवार को इस दुख को सहन करने की शक्ति प्रदान करें। नागालैंड के मुख्यमंत्री नेफ्यू रियो ने डॉ. निहोशे के निधन पर शोक व्यक्त करते हुए कहा कि वह एक कुशल, ईमानदार और दूरदर्शी नेता थे। उन्हें समाज के कल्याण की वास्तविक चिंता थी। 

रियो ने शोक संतप्त लोगों के प्रति संवेदना व्यक्त करते हुए कहा, उनका निधन नागाओं के लिए एक बड़ी क्षति है, विशेष रूप से सुमी समुदाय में एक शून्य उत्पन्न हो गया जिसे भरपाई करना मुश्किल होगा। हालांकि वह अब हमारे साथ नहीं हैं, उनके निस्वार्थ कार्यों को हमेशा याद किया जाएगा। नागालैंड विधानसभा के अध्यक्ष शेरिंनगैन लोंगकुमेर ने कहा कि डॉ निहोशे ने हमेशा विधानसभा के मानकों और मर्यादा का पालन किया। उन्होंने कहा, अपने पूरे सार्वजनिक जीवन में उन्होंने ईमानदारी, सत्यनिष्ठा और सादा जीवन के सिद्धांत का पालन किया। उन्होंने नागालैंड राज्य के विकास के लिए बहुत योगदान दिया और गरीबों के कल्याण के लिए कार्य किया है। उनके निधन से राज्य ने एक प्रेरक नेता और एक सज्जन व्यक्ति को खो दिया है। नागालैंड के उपमुख्यमंत्री वाई पैटन ने भी उनके निधन पर शोक व्यक्त किया है।