मुंबई पुलिस के पूर्व कमिश्नर परमबीर सिंह (former Mumbai Police Commissioner Parambir Singh) की मुश्किलें बढ़ गई है. ठाणे कोर्ट ने आज उनके खिलाफ गैर जमानती वारंट जारी किया है।  पुलिस ने बुधवार को कोर्ट में आवेदन दायर करते हुए कहा था कि सिंह के ख़िलाफ़ गैर जमानती वारंट जारी किया जाए क्योंकि उनके खिलाफ दर्ज वसूली के मामले में वो फरार हैं और समन पर पूछताछ के लिए हाज़िर भी नहीं हो रहे हैं। 

आपको बता दें कि बिपिन अग्रवाल नाम के एक व्यापारी ने मुंबई के गोरेगांव पुलिस स्टेशन में एफआईआर दर्ज कराई थी. इस केस में परमबीर सिंह  समेत एंटीलिया कांड (Antilia scandal) में गिरफ़्तार सचिन वाजे (Sachin Waje) और छोटा शकील का गुर्गा रियाज़ भाटी (Chhota Shakeel's henchman Riyaz Bhati) भी आरोपी है. अग्रवाल के मुताबिक. वाजे और दूसरे आरोपी मिलकर मुंबई के बार और रेस्तरां वालों से पैसों की वसूली करते थे और पैसे ना देने पर उनपर कार्रवाई का डर दिखाया जाता था.

दिलचस्प है कि मुंबई के पुलिस आयुक्त के पद से हटाए जाने के कुछ दिनों बाद परमबीर सिंह ने इस साल की शुरुआत में मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे (Chief Minister Uddhav Thackeray) को लिखे एक पत्र में दावा किया था कि देशमुख पुलिस अधिकारियों से मुंबई में रेस्तरां और बार से पैसे लेने के लिए कहते थे. पिछले दनों महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने परमबीर सिंह पर निशाना साधते हुए कहा था कि राज्य में एक ऐसा मामला है, जहां शिकायतकर्ता लापता हो गया है.