बिहार में लागू शराबबंदी को लेकर पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी ने फिर से सवाल उठाए हैं। बिहार में सत्ताधारी गठबंधन राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) में शामिल हिंदुस्तानी अवाम मोर्चा (हम) के प्रमुख मांझी ने कहा कि थोड़ी थोड़ी शराब पीना गलत नहीं।

ये भी पढ़ेंः सावधानः मौसम विभाग की बड़ी सावधान, हो जाएं सावधान, 5 दिन तक लगातार बारिश की चेतावनी


उन्होंने अपनी ही सरकार की शराब नीति की आलोचना करते हुए कहा कि शराबनीति के कारण गरीब अधिक त्रस्त हैं। यदि शराब थोड़ी-थोड़ी पी जाए तो वह दवा का काम करेगी अधिक ली जाए तो शरीर को हानि पहुंचाएगी। बक्सर में पत्रकारों से चर्चा करते हुए कहा कि डाक्टर भी थोड़ी सी शराब दवा के रूप में लेने के लिए बोलते हैं। मांझी ने कहा कि हमारे वर्ग के भी लोग शुरू से ही शराब बनाने के काम में रहे हैं लेकिन मैंने कभी भी शराब को हाथ नहीं लगाया।

ये भी पढ़ेंः लुटियंस दिल्ली के सबसे बड़े बंगलों में से एक में रहेंगे रामनाथ कोविंद, पत्नी को मिलेंगे हर महीने इतने रुपए, सोनिया के होंगे पड़ोसी


उन्होंने कहा कि दरअसल शराबबंदी के कारण लाखों लोग अभी भी जेल में सजा काट रहे हैं, जिसके कारण गरीब और कमजोर तबके के लोगों को अभी भी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। मांझी ने कहा कि मैं शुरू से ही कुछ मुद्दों पर सरकार से अलग राय रखता हूं। उन्होंने कहा कि मेरे साथ विपक्ष को भी आगे आना चाहिए ताकि सरकार को लगे कि शराबबंदी से गरीब लोगों को काफी परेशानी हो रही है।